टैग: #ICHR, #nationalnews
भारतीय अतीत को संजोने के लिए ICHR के नए चेयरमैन की ये है प्लानिंग
File Photo


नई दिल्ली, मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने महाराष्ट्र के इतिहासकार और पुरातत्वविद् अरविंद जमखेडकर को भारतीय ऐतिहासिक शोध परिषद (ICHR) के नए चेयरमैन पद के लिए चुना है. जमखेडकर प्रोफेसर वाई. सुदर्शन राव की जगह लेंगे. वर्तमान में वह पुणे डेक्कन कॉलेज में बतौर चांसलर अपनी सेवा दे रहे हैं.

भारतीय ऐतिहासिक शोध परिषद के नए चेयरमैन अरविंद पी. जमखेडकर ने शनिवार को कहा कि वो भारत के इतिहास को समझने के लिए विभिन्न विषयों के बीच एक संयुक्त दृष्टिकोण को प्रोत्साहित करेंगे.

जमखेडकर ने कहा, "आईसीएचआर प्रमुख के तौर पर मुझे ऐतिहासिक अध्ययन को बढ़ावा देने का काम सौंपा गया है. जहां तक संभव हो मैं वैचारिक, मानव विज्ञान, पुरातात्विक और ऐतिहासिक विषयों को समझने की कोशिश करूंगा. इतिहास के इन पहलुओं को समझे बिना, कोई भी अतीत का पुनर्निर्माण नहीं कर सकता है."

उनके मुताबिक, विश्व अनुदान आयोग (UGC) की तरह बाकी संस्थानों को भी भारतविद् में मदद करनी चाहिए. जामखेडकर ने बताया, "पाली, प्राकृत, संस्कृत, फारसी और अन्य प्राचीन भाषाओं के विकास के लिए विभिन्न केंद्र भी मदद कर सकते हैं."

बता दें कि अरविंद जमखेडकर ने 1966 में पुणे यूनिवर्सिटी से संस्कृत में मास्टर की डिग्री ली थी. इसके बाद उन्होंने डेक्कन कॉलेज से 1966 में प्राचीन भारतीय इतिहास में डॉक्टरेट की उपाधि ली.


अधिक देश की खबरें