प्रियंका के पैसे वापिस मिल जाएं, उसके बाद उन्हें नीरव मोदी से क्या लेना ?
Priyanka with Nirav


नीरव मोदी के जूलरी विज्ञापन की ब्रैंड एंबेसडर रहीं अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा अब नीरव मोदी से जुड़े सवालों से परेशान हैं. पीएनबी के 11 हज़ार करोड़ के घोटाले में प्रियंका चोपड़ा अपना नाम बिल्कुल नहीं आने देना चाहती. प्रियंका की टीम की मानें तो नीरव एक कंपनी के मालिक हैं और वो उनकी कंपनी का विज्ञापन कर रही थीं. इस तरह नीरव उनके लिए सिर्फ़ एक क्लाएंट हैं और इससे उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता कि वो अपने निजी जीवन या बिज़नेस में क्या कर रहे हैं.

प्रियंका चोपड़ा बीते साल नीरव मोदी के विज्ञापन में अभिनेता सिद्धार्थ मल्होत्रा के साथ नज़र आईं थीं. इसके अलावा भी वह कई इवेंट्स पर नीरव के साथ नज़र आई हैं और उनकी कई तस्वीरें भी साथ में हैं.

प्रियंका के बचाव में उनकी बहन परिणीति खुल कर आईं और उन्होंने कहा कि इस तरह के मामलों में अक्सर किसी अभिनेता का नाम उछालना आसान होता है क्योंकि हम लोकप्रिय होते हैं.

परिणीति कहती हैं, “किसी भी ब्रान्ड से जुड़ने में एक एक्टर से पहले कई मैनेजर और कई लोग आते हैं और उसके बाद जाकर कहीं स्टार सेट पर शूटिंग के लिए आता है. ऐसे में किसी कंपनी के अंदर क्या चल रहा है इस पर स्टार का बस नहीं चलता.”

लेकिन क्या किसी विज्ञापन को करने से पहले स्टार उसके बारे में जानकारी नहीं रखते? इस पर परिणीति का कहना था, “हां हमारी लीगल टीम होती हैं और हम भी अपने स्तर पर कई चेक करते हैं लेकिन ऐसा कुछ हो जाना ये हमारे लिए भी शॉकिंग होता है, शायद है भी.”

दरअसल इस पूरे मामले में बॉलीवुड स्टार्स की एक कमी उभरकर सामने आती है और वो यह कि वो किसी प्रॉडक्ट को बेचने से पहले उसके बारे में कितनी जानकारी जुटाते हैं. इससे पहले कैडबरी को लेकर अमिताभ बच्चन और कई फेयरनेस क्रीम्स को लेकर सोनम कपूर और यामी गौतम निशाने पर आ चुके हैं.

अभिनेता फरहान खान कह चुके हैं कि स्टार्स पहले हर प्रॉडक्ट के बारे में जानकारी लेते हैं और तभी उसका विज्ञापन करते हैं. ऐसे में नीरव मोदी के मामले में प्रियंका की जानकारी थोड़ी कम नज़र आ रही हैं. इस कम जानकारी का खामियाज़ा उन्हें आर्थिक स्तर पर भी उठाना पड़ा है.

प्रियंका से जुड़े सूत्रों की मानें तो साल 2016-17 में नीरव मोदी की टीम की ओर से उन्हें अप्रोच किया गया था और ग्लोबल ब्रांड होने की वजह से इस ब्रांड से जुड़ना प्रियंका को ठीक लगा. ये एक सीमित समय का कॉन्ट्रैक्ट था जिसकी रकम कुछ किश्तों में दी जानी थी. इसके बाद इन विज्ञापनों की दूसरी किश्त शुरू होती लेकिन उससे पहले ही नीरव मोदी का विवाद सामने आ गया.

प्रियंका चोपड़ा को अभी भी उनके कॉन्ट्रैक्ट के अनुसार कुछ रॉयल्टी मिलनी है क्योंकि नीरव मोदी जूलरी की ब्रांडिग और पोस्टर पर उनका चेहरा है जो अभी भी इस्तेमाल हो रहा है. नीरव मोदी की वेबसाइट जो फिलहाल चल नहीं रही है, पर भी प्रियंका का चेहरा प्रमुखता से दिखाया जाता है लेकिन नीरव मोदी के फरार होने के बाद प्रियंका इस कैंपेन से अपना नाम वापस लेना चाहती हैं और इस पर उनकी लीगल टीम काम कर रही है.

प्रियंका की लीगल टीम की ओर से यही बताया गया है कि कॉन्ट्रैक्ट की बची रकम को वापिस लेने के लिए वो काम कर रहे हैं लेकिन यह भी खबर है कि इस डील से प्रियंका का नाम वापस लिया जा सकता है और प्रियंका की ग्लोबल इमेज पर कोई चोट न पहुंचे इसके लिए टीम लगातार काम कर रही है.


अधिक मनोरंजन की खबरें