किसानो की सूखी रोटी भी अब छीन लेना चाहती है बीजेपी की केंद्र और प्रदेश सरकार : डॉ. मसूद अहमद
RLD State President Masood Ahmad.


लखनऊ,  राष्ट्रीय लोकदल के प्रदेश अध्यक्ष डाॅ0 मसूद अहमद ने कहा कि भाजपा की केन्द्र और प्रदेश सरकारें किसानों की आमदनी दोगुनी करने का लाॅलीपाप दिखाते नहीं थक रही हैं।  जबकि अब तक न तो लालीपॉप मिला और न ही मिलने की सम्भावना दूर दूर तक दिखाई पड रही है परन्तु किसानों की सूखी रोटी अवश्य छीनी जा रही है। विगत 20 दिनों के अन्दर डी0ए0पी0 खाद का मूल्य 124 रूपये तक बढना इस बात का प्रत्यक्ष प्रमाण है। रबी की फसल तैयार है परन्तु अब तक गेहूं का समर्थन मूल्य दोनो ही सरकारों ने घोषित नहीं किया। अलबत्ता खाद का मूल्य अवष्य बढा दिया गया है । 

डॉ. मसूद अहमद ने कहा कि देश के प्रधानमंत्री के विदेष भ्रमण का यह लाभ किसानों के खाते में अवष्य गया कि खाद का मूल्य बढ गया क्योंकि चीन, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया,  मोरक्कों तथा संयुक्त राज्य अमेरिका जैसे देशों से डी0ए0पी0 या उसका कच्चा माल आयात होता है। सरकार के कथनानुसार कच्चे माल का भाव 70 से 90 डालर प्रति टन की बढोत्तरी हुयी है इसी आधार पर डी0ए0पी0 खाद के दाम उ.प्र. में 124 रूपये बढा दिये गये हैं। उन्होंने कहा कि मैं पूछना चाहता हूं कि जब क्रूड आॅयल की कीमते विष्व बाजार में आधी से भी कम हो गयी तब पेट्रोल और डीजल की कीमते आधे से कम क्यों नहीं की गयी? वह आज भी आसमान छू रही है। फिर किसानों पर इस तरह की गाज गिराना कहां का न्याय है?

रालोद प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि गन्ने का लगभग करोड़ों रूपया आज भी बकाया है और बाहर से 3 लाख टन चीनी आयात कर ली गयी है इसी प्रकार आलू का 549 रूपये समर्थन मूल्य घोषित होने के बावजूद सरकार द्वारा की जाने वाली 2 लाख टन की खरीद अब तक नहीं हुयी और आलू कोल्ड स्टोरेेज में पहुंच गया है। इस प्रकार की धोखेबाज प्रदेश के किसानों के साथ कब तक होती रहेगी? किसान महापंचायतों में किसानों के छलकने वाले दर्द का भी आभास केन्द्र और प्रदेश सरकार के लोगो तक नहीं हो रहा है। क्या किसान के हिस्से में केवल आसमानी भाषण ही रहेगे? यदि यही हाल रहा तो निकट भविष्य में प्रदेश के किसानों एवं राष्ट्रीय लोकदल के पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं द्वारा विधान सभा घेराव किया जायेगा। 


अधिक राज्य की खबरें