राहुल जी! छोटा भीम भी जानता है ऐप पर इन्फॉर्मेशन की जासूसी नहीं होगी: स्मृति ईरानी
File Photo


नई दिल्ली, कांग्रेस और बीजेपी के बीच डेटा लीक के मुद्दे पर वाक्युद्ध जारी रहने के बीच राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को बिग बॉस करार दिया, जो भारतीयों पर जासूसी करवाना चाहते हैं. इस पर केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने पलटवार किया कि छोटा भीम भी जानता है कि यह जासूसी नहीं है. इस वाक्युद्ध का अखाड़ा ट्विटर बन गया है, जहां बीजेपी ने विपक्षी दल पर डाटा चोरी का आरोप लगाते हुए कहा कि आरोपों के सामने आने के बाद उसने अपने एप को हटा लिया है.

बहरहाल कांग्रेस ने दावा किया कि उसने ऐसा नहीं किया. उसकी साइट ने काम करना बंद कर दिया है तथा सदस्य बनाने के काम को पार्टी की आधिकारिक वेबसाइट के जरिये किया जा रहा है. प्रधानमंत्री के आधिकारिक एप से उपयोगकर्ताओं की सहमति के बिना डाटा साझा करने के आरोप सामने आने के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्विटर पर कहा कि नमो एप ने गोपनीय रूप से ऑडियो, वीडियो, सम्पर्क किया तथा जीपीएस के जरिये पता-ठिकाना तक जान लिया.

क्या था राहुल गांधी का ट्वीट?
उन्होंने कहा, ‘मोदी का नमो एप गोपनीय रूप से ऑडियो, वीडियो तथा आपके मित्रों एवं परिवार के सम्पर्क रिकार्ड कर रहा है तथा जीपीएस के जरिये आपके पते-ठिकाने को जान रहा है. वह बिग बॉस है जो भारतीयों की जासूसी करना चाहता है.’ राहुल ने ‘डिलीट (हटाओ) नमो एप’ हैशटैग के साथ किये ट्वीट में कहा, ‘अब वह हमारे बच्चों के बारे में डाटा चाहते हैं. 13 लाख एनसीसी कैडेटों को एप डाउनलोड करने के लिए मजबूर किया गया.’

उन्होंने एक अन्य ट्वीट में कहा, ‘मोदी लाखों भारतीयों के डाटा के साथ प्रधानमंत्री पद का दुरुपयोग सरकार द्वारा प्रोत्साहित नमो एप के जरिये अपना व्यक्तिगत डाटाबेस बनाने के लिए कर रहे हैं.’ राहुल ने कहा, ‘यदि प्रधानमंत्री भारत के साथ प्रौद्योगिकी के जरिये संवाद करना चाहते हैं तो कोई समस्या नहीं है. किंतु क्या इसके लिए आधिकारिक पीएमओ एप का इस्तेमाल किया जाएगा. डाटा का सम्बन्ध भारत से है, मोदी से नहीं.’

स्मृति ईरानी का वार
सूचना एवं प्रसारण मंत्री स्मृति ईरानी ने पलटवार करते हुए कहा, ‘राहुल गांधी जी छोटा भीम भी जानता है कि एप पर आमतौर पर मांगी जाने वाली अनुमति जासूसी नहीं होगी.’ उन्होंने कहा, ‘‘राहुल गांधी जी ये क्या? ऐसा लगता है कि आपने जो कहा, आपकी टीम उसके बिल्कुल विपरीत ही कर रही है. नमो एप की जगह उन्होंने कांग्रेस एप को ही डिलीट कर दिया.’ स्मृति ने कहा, ‘अब चूंकि प्रौद्योगिकी की बात हो रही है, राहुल गांधी जी, क्या आप जवाब देना पसंद करेंगे कि क्यों कांग्रेस सिंगापुर सर्वर्स को डाटा भेज रही है जिस पर कोई भी टॉम, डिक (ऐरा-गैरा) और एनेलिटिका पहुंच सकता है.’

बहरहाल, बीजेपी ने आरोपों को खारिज कर दिया और आरोप लगाया कि कांग्रेस प्रमुख ‘झूठ’ बोल रहे हैं. राहुल पर हमला बोलते हुए बीजेपी की आईटी शाखा के प्रमुख अमित मालवीय ने कहा कि कांग्रेस पार्टी के एप के डाटा को उनके सिंगापुर के मित्रों के साथ साझा किया जाता है. मालवीय ने कहा कि कांग्रेस की सदस्यता वेबसाइट अब उपलब्ध नहीं है.

एप बंद होने पर कांग्रेस का जवाब
उन्होंने ट्वीट कर कहा, ‘आप को यह संदेश मिलेगा कि हम वेबसाइट में मामूली बदलाव कर रहे हैं. आईएनसी सदस्यता प्रक्रिया में शामिल होने के लिए आप कुछ समय बाद आइये. कांग्रेस पार्टी क्या छिपाने का प्रयास करती है.’ कांग्रेस की सोशल मीडिया की प्रभारी दिव्या स्पंदना राम्या ने कहा कि जिस यूआरएल की ओर संकेत किया जा रहा वह कुछ समय के लिए कामकाज नहीं कर रहा है और सदस्यता आईएनसी वेबसाइट के जरिये हो रही है.

उन्होंने कहा, ‘हमारी सदस्यता की कोई अन्य साइट नहीं है. किसी से भी समझौता नहीं किया गया. हमने कुछ भी नहीं हटाया है.’ 


अधिक देश की खबरें