HDFC बैंक ग्राहकों को बड़ा तोहफा, आपके जमा पर अब मिलेगा ज्यादा ब्याज
HDFC बैंक ग्राहकों को बड़ा तोहफा, आपके जमा पर अब मिलेगा ज्यादा ब्याज
File Photo


नई दिल्ली: प्राइवेट सेक्टर के सबसे बड़े बैंक एचडीएफसी बैंक ने टर्म डिपॉजिट (मियादी जमा) दरों में 100 बेसिस प्वाइंट (1 फीसदी) का इजाफा किया है. ग्राहकों को पैसे जमा करने को प्रेरित करने के लिए एचडीएफसी बैंक ने यह कदम उठाया है. अब एचडीएफसी बैंक के ग्राहकों को 1 वर्ष से ज्यादा अवधि के लिए जमा रकम पर 7 प्रतिशत और वरिष्ठ नागरिकों को 7.5 प्रतिशत ब्याज मिलेगा जबकि 1 करोड़ रुपए से ऊपर की रकम जमा करने वाले ग्राहक इससे भी ज्यादा रिटर्न पा सकेंगे. मतलब यह कि अब एचडीएफसी बैंक में फिक्स्ड डिपॉजिट कराने वाले ग्राहकों को पहले से ज्यादा ब्याज मिलेगा.

एचडीएफसी बैंक की नई ब्याज दरें
अब एचडीएफसी बैंक के ग्राहकों को 1 वर्ष के लिए जमा रकम पर 7 फीसदी और वरिष्ठ नागरिकों को 7.5 फीसदी का ब्याज मिलेगा. वहीं, 1 करोड़ रुपए से ऊपर की रकम जमा करने वाले सामान्य ग्राहकों को 7.25 फीसदी और वरिष्ठ नागरिकों को 7.75 फीसदी का ब्याज मिलेगा.

ग्राहकों को होगा बड़ा फायदा
एचडीएफसी बैंक में अभी ग्राहकों के 7.9 लाख करोड़ रुपए जमा हैं. यह रकम देश के सभी बैंकों में जमा धन का 7 प्रतिशत है. स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) ने फरवरी महीने में जमा रकम पर ब्याज दर में 50 बेसिस पॉइंट्स (0.5 प्रतिशत) की वृद्धि की थी. अब दूसरे बैंकों से भी ब्याज दर बढ़ाने की उम्मीद की जा रही है. ऐसा इसलिए क्योंकि कर्ज की रकम बढ़ने के अनुपात में जमा रकम में वृद्धि नहीं देखी जा रही है. 

ये हैं RBI के आंकड़े
रिजर्व बैंक की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक, 30 मार्च 2018 को बैंकों में कुल 115 लाख करोड़ रुपए जमा थे. जमा रकम में वृद्धि के लिहाज से यह महज 6.7 प्रतिशत रहा जबकि पिछले वित्त वर्ष यह आंकड़ा 15.3 प्रतिशत पर था. इस दौरान बैंकों ने 10.3 प्रतिशत की वृद्धि के साथ कुल 87 लाख करोड़ रुपए का कर्ज दिया. ध्यान रहे कि पिछले वित्त वर्ष में कर्ज देने का वृद्धि प्रतिशत 8.2 था.

SBI ने भी बढ़ाई थी दरें
स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने फरवरी में रिटेल टर्म डिपॉजिट (फिक्स्ड डिपॉजिट) पर ब्याज दरें बढ़ाई थीं. बैंक ने कुल 9 अवधियों के लिए कराए जाने वाले फिक्स्ड डिपॉजिट में 0.10 से 0.50 बेसिस प्वाइंट की बढ़ोतरी की थी. एसबीआई ने ये दरें 1 करोड़ से कम की जमा पर बढ़ाई थीं.


अधिक बिज़नेस की खबरें