टैग: #upnews, #bjp, #sapa
लोकतंत्र की पवित्रता नष्ट करने पर उतारू है भाजपा : राजेंद्र चौधरी
File Photo


लखनऊ, समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय सचिव राजेन्द्र चौधरी ने कहा कि भाजपा का नेतृत्व लोकतंत्र की पवित्रता नष्ट करने पर उतारू है। भाजपा की स्तरहीन भाषा राजनैतिक शिष्टाचार के विरूद्ध है लेकिन भाजपा को इसकी परवाह नही है। भाजपा का राजनैतिक आचरण सामाजिक सद्भाव को बिगाड़ने का रहता है। जबकि समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव जातिवादी राजनीति और सम्प्रदायवाद के घोर विरोधी हैं। हद तो तब हो जाती है जब भाजपा का शीर्ष नेतृत्व चुनाव की आदर्श आचार संहिता की नैतिकता को ताक पर रखकर लोकतंत्र की धज्जियां उड़ाने में कोई लाज भी नही महसूस करता है।

चौधरी ने कहा कि लोकतंत्र की मंशा बिना लोकलाज के सफल नही हो सकती है। मुख्यमंत्री जी का समाजवादी सरकार के विषय में दिया गया दुर्भावना पूर्ण बयान तथ्यों के विरूद्व है। जबकि सच्चाई यह है कि भाजपाइयों के पास दंगा कराने की विशेषज्ञता है। समाजवादी पार्टी और अखिलेश यादव के बारे में इस तरह के आरोपों पर कोई विश्वास नही कर सकता है। भाजपा मुख्यमंत्री का यह बयान पूरी तरह भ्रामक और जनता को गुमराह करने वाला है।

सपा प्रवक्ता ने कहा कि भाजपाई लाख कोशिश करे तब भी अखिलेश यादव जी के सार्वजनिक जीवन की पारदर्शिता की बराबरी नही कर सकती। यादव की सामाजिक सद्भाव के प्रति अटूट निष्ठा, नैतिक मूल्यों के रास्ते पर चलते हुए ईमानदारी के साथ जनहित के विकास कार्यो के प्रति हमेशा प्रतिबद्धता की शैली से भाजपा के अलावा सभी परिचित हैं। भाजपा तो सत्तामद में दंभी भाषा से अलोकतांत्रिक महापाप कर रही है।

चौधरी ने कहा कि क्या यह सच नही है कि समाज का एक बड़ा वर्ग भाजपा सरकार के कारण दहशत में है। उत्तर प्रदेश में किसान तबाह हैं, भाजपा सरकार ने गन्ना किसानों के साथ धोखा किया है। नौजवान बेकारी के कारण अंधकार में भटक रहे हैं। किसान-नौजवान आत्महत्या करने को विवश हो गये है। यहां तक कि पांच सौ से अधिक शिक्षामित्र आत्महत्या के शिकार हो चुके है। अपहरण, लूट, डकैती, बलात्कार, कत्ल की घटनायें थमने का नाम नही ले रही है। बच्चियां घरों से बाहर निकलती हुई डरी रहती हैं। गुण्डो बदमाशों को अपराध करने की भाजपा शासन में खुली छूट मिली हुई है।
राजेन्द्र चौधरी ने कहा कि यह सबको पता है कि राज्य की भाजपा सरकार में विकास का कोई कार्य नही हुआ है। एक वर्ष में ही भाजपा सरकार से जनता त्रस्त हो गयी है। पूरे राज्य में अराजकता व्याप्त है। कानून का राज इसलिये समाप्त है क्योकि भाजपा के नेता कानून और प्रशासन को कठपुतली बनाये हुए है। डरा सहमा उत्तर प्रदेश अनिश्चितता के भंवर में फंसा है। राज्य का जागरूक समाज प्रदेश सरकार की वादा खिलाफी का भाजपा को सबक सिखाने के लिए संकल्पित है.


अधिक राज्य की खबरें