सांसद तबस्सुम हसन के स्वागत में फिर एक दिखा 'पूरा विपक्ष', बोले जयंत - 2019 में गठबंधन होगा और 'मजबूत'
reception of tabasum hassans at RLD office


लखनऊ, कैराना उप चुनाव में जीत के बाद आज पहली बार लखनऊ आये राष्ट्रीय लोकदल के उपाध्यक्ष जयंत चौधरी ने सत्तसीन भारतीय जनता पार्टी पर जोरदार हमला बोला. पार्टी कार्यालय में कैराना की नवनिर्वाचित सांसद तबस्सुम हसन के स्वागत में आयोजित समारोह में बोलते हुए जयंत ने कहा कि कैराना की सांसद बेगम तबस्सुम हसन की विजय ने पूरे भारत में यह संदेश दिया है कि साम्प्रदायिक ताकतों को उखाड फेकने के लिए सभी वामपंथी विचारधारा की पार्टियां और देश का बेरोजगार नौजवान तथा परेषान किसान संकल्प ले चुका है। आने वाला 2019 किसानों और नौजवानों का होगा। सभी लोग मिलकर आने वाले समय में जुमलेबाजों, झूठे वादे करने वाले एवं बेरोजगारों को लोलीपोपदिखानों वालों को देष से उखाड फेंकेगे।  

योगी सरकार द्वारा शहरों के नाम बदले जाने पर तंज कसते हुए सवाल किया है कि मुगलई पराठे का नाम बदलकर क्या रखा जाएगा? बुधवार को राष्ट्रीय लोकदल के प्रदेश कार्यालय पर नवनिर्वाचित सांसद तबस्सुम हसन के स्वागत में आयोजित समारोह में बोलते हुए जयंत ने कहा, 'जिनके हाथ में देश और प्रदेश की सत्ता है, उनके पास ताकत है, लेकिन हमारे साथ जनता और जनभावना है। उन्होंने मुगलसराय स्टेशन का नाम बदल दिया, अब मुगलई पराठे का नाम भी बदलेंगे। हजरतगंज का नाम बदल कर क्या रखेंगे?... गोरखगंज।' सम्मान समारोह के बाद आरएलडी कार्यालय पर आयोजित रोजा इफ्तार पार्टी में विपक्षी दलों के नेताओं के साथ-साथ शहर की कई हस्तियों ने शिरकत की

गठबंधन मजबूत होगा
आरएलडी उपाध्यक्ष जयंत चौधरी ने कहा कि उपचुनाव में 15 से अधिक विपक्षी दलों ने कैराना और नूरपुर के विजयी प्रत्याशियों का समर्थन किया था। उन्होंने कहा, 'सिर्फ समर्थन ही नहीं, सभी पार्टियों के नेताओं ने अपना चुनाव और खुद को तबस्सुम हसन का प्रतिनिधि मान कर चुनाव लड़ा और परिणाम सामने है। हमारी कोशिश है कि यह गठबंधन और मजबूत हो।' उन्होंने कहा कि उनकी लड़ाई जिनसे है, वे अभी भी नहीं सुधरे। जनता ने सोचा कि चुनाव हराने के बाद वह सुधर जाएंगे, लेकिन उनमें सुधार होते नहीं दिख रहा। बिना बीजेपी का नाम लिए उन्होंने कहा कि जो वहां जाता है, उसी रंग में रंग जाता है, वह जमात ही ऐसी है। 

महिलाओं का प्रतिनिधित्व
जयंत ने कहा, 'हिन्दू - मुसलमान छोड़ दीजिए। इस जीत से संदेश गया है कि एक महिला जीती है। इस जीत के साथ संसद में 63 महिला सांसद हो गईं।' तबस्सुम हसन को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, लोग महिलाओं के आरक्षण की बात करते हैं, लेकिन हमारे दल की आप अकेली सांसद हैं। सांसद दल की नेता भी आप ही हैं। उन्होंने कहा कि आरएलडी में सौ फीसदी महिलाओं का प्रतिनिधित्व है। उन्होंने इस दौरान एसपी अध्यक्ष अखिलेश यादव और बीएसपी अध्यक्ष मायावती की जमकर तारीख की। इसके अलावा जयंत ने कांग्रेस, आप, एनसीपी सहित अन्य दलों के नेताओं को सहयोग के लिए धन्यवाद दिया। 

अखिलेश -जयंत की रणनीति
आरएलडी सहित विपक्षी दलों के नेताओं और कार्यकर्ताओं का आभार जताते हुए कैराना की नवनिर्वाचित सांसद तबस्सुम हसन ने कहा, 'एसपी अध्यक्ष अखिलेश यादव और आरएलडी उपाध्यक्ष जयंत चौधरी ने चुनाव में जो रणनीति बनाई, उस रणनीति के तहत सभी दलों के योद्धाओं ने बड़ी मेहनत के साथ काम किया और जीत के रूप में उसी का नतीजा सामने है। अगर हम गठबंधन को इसी सम्मान के साथ आगे लेकर चलेंगे, तो 2019 में कोई ताकत हमें रोक नहीं पाएगी। रणनीति का ही कमाल था कि बीजेपी अभी तक सोच रही है कि वह हार कैसे गई?' तबस्सुम हसन ने आखिर में धन्यवाद के साथ समाजवाद का नारा बुलंद किया। 

विपक्षी नेताओं का जमावड़ा
तबस्सुम हसन के स्वागत में समारोह का आयोजन भले ही आरएलडी के प्रदेश कार्यालय में हुआ हो, लेकिन समारोह में अधिकांश विपक्षी दलों के नेताओं का जमावड़ा देखने को मिला। स्वागत समारोह में आरएलडी के राष्ट्रीय महासचिव त्रिलोक त्यागी, प्रवक्ता अनिल दुबे सहित पार्टी नेताओं नेताओं के साथ एसपी के प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम, एनसीपी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ रमेश दीक्षित, सीपीएम के नेता प्रभुनाथ राय, कांग्रेस के उपाध्यक्ष सिराज मेंहदी, प्रवक्ता अमर नाथ अग्रवाल, सिद्धार्थ प्रिय श्रीवास्तव, राजेश शुक्ला, आरजेडी के प्रदेश अध्यक्ष अशोक सिंह सहित कई दलों के नेता मौजूद थे। समारोह की अध्यक्षता आरएलडी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. मसूद अहमद ने की। 


अधिक राज्य की खबरें