IIFA 2018: 'मॉम' के लिए श्रीदेवी को मिला बेस्ट ऐक्ट्रेस अवॉर्ड
अवॉर्ड लेने के लिए बोनी कपूर जब मंच पर पहुंचे तो वह भावुक हो गए।


19वें इंटरनैशनल इंडियन फिल्म अकैडमी अवॉर्ड्स यानी IIFA 2018 में बोनी कपूर के लिए तब भावुक पल आया जब उन्होंने अपनी स्वर्गीय पत्नी श्रीदेवी को मिला बेस्ट ऐक्ट्रेस अवॉर्ड लिया। 

बता दें कि श्रीदेवी का इस वर्ष 24 फरवरी को दुबई में निधन हो गया था, वह वहां पर अपने परिवार में आयोजित के विवाह कार्यक्रम में हिस्सा लेने पहुंची थीं। स्वर्गीय श्रीदेवी को यह अवॉर्ड वर्ष 2017 में आई क्राइम थ्रिलर फिल्म 'मॉम' में मां का किरदार निभाने के लिए दिया गया। 

मंच पर भावुक हो गए बोनी कपूर 
अवॉर्ड लेने के लिए बोनी कपूर जब मंच पर पहुंचे तो वह भावुक हो गए। आंसुओं से डबडबाई आंखों के साथ बोनी ने कहा, 'मैं उनकी कमी मेरे जीवन के हर एक क्षण में महसूस करता हूं।' हालांकि, बाद में बोनी के बेटे और बॉलिवुड स्टार अर्जुन कपूर और भाई अनिल कपूर मंच पर पहुंचे और उन्हें सहानुभूति दी। इस मौके पर बॉलिवुड स्टार अनिल कपूर ने कहा, 'सच में वह महान थीं। देश, विश्व और हमारा परिवार आपको याद करता है।'

65वें नैशनल फिल्म अवॉर्ड्स में भी मिला था सम्मान 
मरणोपरांत श्रीदेवी को इससे पहले नई दिल्ली में आयोजित 65वें नैशनल फिल्म अवॉर्ड्स में भी 'मॉम' के लिए सम्मानित किया जा चुका है। अपने पांच दशकों के लंबे फिल्मी करियर में 54 वर्षीय श्रीदेवी ने तमिल, तेलुगू, हिंदी, मलयालम और कन्नड़ फिल्मों में भी काम किया। उन्हें भारतीय सिनेमा की पहली महिला सुपरस्टार के रूप में जाना जाता था। भारत सरकार ने साल 2013 में उन्हें पद्मश्री से नवाजा था। श्रीदेवी ने बॉलीवुड में कदम रखने से पहले तमिल, तेलुगु, मलयालम और कन्नड़ फिल्मों में काम किया था। उन्होंने अपने करियर की शुरुआत महज 4 साल की उम्र में बतौर चाइल्ड आर्टिस्ट की थी। 

सोलवां सावन थी श्रीदेवी की पहली हिंदी फिल्म 
श्रीदेवी की पहली हिंदी फिल्म सोलवां सावन थी जो साल 1979 में आई थी। हालंकि उन्हें बॉलीवुड में पहचान फिल्म 1983 में आई फिल्म हिम्मतवाला से मिली। यह उस साल की ब्लॉकस्बस्टर फिल्म थी। 

ये हैं श्रीदेवी की यादगार फिल्में 
सोलवां सावन, सदमा, हिम्मतवाला, जाग उठा इंसान, अक्लमंद, इन्कलाब, तोहफा, सरफरोश, बलिदान, नया कदम, नगीना, घर संसार, मकसद, सुल्तान, आग और शोला, भगवान, आखरी रास्ता, जांबांज, वतन के रखवाले, जवाब हम देंगे, औलाद, नजराना, कर्मा, हिम्मत और मेहनत, मिस्टर इंडिया, निगाहें, जोशीले ,गैर कानूनी, चालबाज, खुदा गवाह, लम्हे, हीर रांझा, चांदनी, रूप की रानी चोरों का राजा, चंद्रमुखी, चांद का टुकड़ा, गुमराह, लाडला, आर्मी, जुदाई, हल्ला बोल, इंग्लिश विंग्लिश और मॉम आदि श्रीदेवी की यादगार फिल्में हैं। 


अधिक मनोरंजन की खबरें