पाक मंत्री का दावा- पीएम मोदी ने इमरान ख़ान को दिया बातचीत का न्योता; भारत ने किया खंडन
file photo


नई दिल्ली, पीएम नरेंद्र मोदी ने पाकिस्‍तान के नए प्रधानमंत्री इमरान खान को चिट्ठी लिखकर बधाई दी है, ऐसा पाकिस्तान के नए विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी का दावा है. शाह महमूद कुरैशी ने बताया,  "भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इमरान ख़ान को चिट्ठी लिखी है, जिसमें उन्होंने बातचीत का न्योता दिया है." हालांकि, सूत्रों ने न्यूज 18 को बताया कि पीएम मोदी ने इमरान ख़ान को बधाई देने के लिए चिट्ठी लिखी थी, इसमें बातचीत का कोई न्योता नहीं है.

शाह के मुताबिक पीएम नरेंद्र मोदी ने चिट्ठी में लिखा, 'पड़ोसी मुल्‍क से हमारे रिश्ते हमेशा से अच्‍छे रहे हैं. हम उम्‍मीद करते है कि पाकिस्‍तान की नई सरकार भारत से सकारात्‍मक और अर्थपूर्ण सहयोग करेगी.'

बकौल जियो न्यूज शाह ने कहा, "भारत के साथ निरंतर और अबाधित बातचीत की ज़रूरत है. दोनों ही देशों को इसके लिए कदम बढ़ाने होंगे."

शाह ने कहा, "मैं भारतीय मीडिया को बताना चाहता हूं कि हम सिर्फ पड़ोसी नहीं हैं; हम परमाणु संपन्न देश हैं. हम दोनों के पास ही समान संसाधन हैं. हमारे पास लंबे समय से खिंचे आ रहे मुद्दे हैं और दोनो ही देश एक-दूसरे की परेशानियां समझते हैं. लेकिन हमारे पास सिवाय बातचीत के कोई रास्ता नहीं, हम जोखिम नहीं उठा सकते."

उन्होंने कहा, "ये मुद्दे जटिल हैं और इन्हें हल करने में कई परेशानियां आएंगी. लेकिन हमें कोशिश करते रहना है. हमें मानना होगा कि हम परेशानियों का सामना कर रहे हैं. हमें यह भी स्वीकार करना होगा कि कश्मीर एक सच्चाई है. हमारी सोच और रवैया अलग-अलग हो सकता है लेकिन मैं चाहता हूं कि हम इसमें बदलाव करें."

इमरान ख़ान भी कर चुके हैं भारत से रिश्ते सुधारने की बात
पाकिस्तान के नवनिर्वाचित प्रधानमंत्री इमरान खान ने राष्ट्र के नाम अपने पहले संबोधन में पड़ोसी देशों से रिश्ते सुधारने की बात कही थी. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान को अपने सभी पड़ोसियों के साथ 'बेहतरीन संबंध' रखने की दिशा में काम करना होगा क्योंकि इसके बिना देश में शांति लाना संभव नहीं होगा. देश के 22वें प्रधानमंत्री के तौर पर शपथ लेने के बाद राष्ट्र के नाम करीब एक घंटे लंबे भाषण में खान ने आर्थिक मोर्चे पर पाकिस्तान को आने वाली चुनौतियों को चिह्नित किया और मितव्ययता लाने के लिए व्यापक सुधार करने तथा मंद अर्थव्यवस्था में फिर से जान फूंकने का वादा किया.

पाकिस्तान की विदेश नीति के संबंध में खान ने कहा कि पाकिस्तान को 'अपने सभी पड़ोसियों के साथ बेहतरीन रिश्ते' बनाने के लिए काम करना होगा.

उन्होंने कहा, "मैंने सभी पड़ोसी देशों से बात की है और इंशा अल्लाह हम सभी के साथ अपने संबंध सुधार लेंगे. पड़ोसियों के साथ शांति बनाए बिना हम देश में शांति नहीं ला सकते."

खान ने कहा था कि पाकिस्तान पड़ोसी भारत के साथ अपने संबंधों को सुधारने के लिए तैयार है और उनकी सरकार चाहती है कि दोनों पक्षों के नेता बातचीत के जरिए कश्मीर के 'मुख्य मुद्दे' समेत सभी विवादों को सुलझाएं. उन्होंने कहा था, "अगर वह हमारी तरफ एक कदम उठाते हैं, तो हम दो कदम उठाएंगे लेकिन हमें कम से कम एक शुरुआत की जरूरत है."


अधिक देश की खबरें