SPO की हत्या के लिए ISI ने भेजे निर्देश, सबूत मिलने के बाद भारत ने कैंसिल की मीटिंग
File Photo


जम्मू-कश्मीर के शोपियां में तीन स्पेशल पुलिस अधिकारियों (SPO) के अपहरण और हत्या के पीछे पाकिस्तान का हाथ है. भारतीय सुरक्षा एजेंसियों ने पाकिस्तान के खुफिया एजेंसी इंटर सर्विसेज इंटेलिजेंस (ISI) का मैसेज को इंटरसेप्ट कर ऐसा दावा किया है. मैसेज में आईएसआई अधिकारी कश्मीर में छिपे आंतिकयों को पुलिसकर्मियों को इस्तीफे के लिए डराने-धमकाने और नहीं मानने पर उन्हें अगवा कर हत्या करने का निर्देश देते सुने गए हैं.

शुक्रवार सुबह हिजबुल आतंकियों ने शोपियां इलाके से तीन स्पेशल पुलिस अधिकारियों एसपीओ निसार अहमद, फिरदौस अहमद और कुलवंत सिंह समेत एक सिविलियन को किडनैप कर लिया था. इनमें से पुलिसकर्मियों की हत्या कर दी गई थी, जबकि एक एसपीओ के भाई फयाज अहमद भट को आतंकियों ने चेतावनी देकर छोड़ दिया था.

अंग्रेजी अखबार 'टाइम्स ऑफ इंडिया' की एक रिपोर्ट में ये बात सामने आई है. रिपोर्ट के मुताबिक, इस्लामाबाद से मिले आखिरी निर्देश के आधार पर ही पुलिसकर्मियों की हत्या की गई थी. पाकिस्तान से भेजे गए ये मैसेज इतने साफ थे कि इसमें मारे जाने वाले एसपीओ के नाम का भी जिक्र किया गया था.

आईएसआई ने अपने मैसेज में पुलिसकर्मियों की हत्या का निर्देश देने के साथ ही एक सिविलियन को छोड़ने के निर्देश भी दिए थे. रिपोर्ट के मुताबिक, पाकिस्तान से आए ये मैसेज इतनी तेजी से आए कि हमारे एजेंसियों को कोई मौका ही नहीं मिला.

रिपोर्ट के मुताबिक, यह भी बताया जा रहा है कि एसपीओ की हत्याओं के पीछे का मकसद लंबे वक्त बाद जम्मू-कश्मीर में होने जा रहे स्थानीय चुनावों को प्रभावित करना है. हालांकि, गृह मंत्रालय का कहना है कि इस तरह की हमलों का वाजिब जवाब दिया जाएगा.


अधिक देश की खबरें