रेप आरोपी की मां का बयान- 'बेटा अगर दोषी है तो फांसी पर लटका दो, बाकियों को छोड़ दो'
File Photo


पिछले हफ्ते 14 महीने की बच्ची से बलात्कार मामले के बाद अब गुजरात से उत्तर प्रदेश और बिहार के सैकड़ों लोग काम-काज छोड़कर घर वापस जा रहे हैं. ऐसे में बलात्कार आरोपी की मां ने लोगों से अपील की है कि अगर उनका बेटा दोषी है तो उसे फांसी पर लटका दिया जाए लेकिन गुजरात से अन्य राज्यों के लोगों को बाहर नहीं निकाला जाए. आरोपी की मां रामावती देवी ने हिंदुस्तान टाइम्स से बातचीत में यह बात कही.

आरोपी मूल रूप से बिहार के सरन जिले के मंझी ब्लॉक का रहने वाला है. आरोपी के पिता मजदूरी का काम करते हैं. परिवार ने खुलासा किया है कि नाबालिग युवक कई बार 'असामान्य' व्यवहार करता है. हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, आरोपी के पिता ने कहा, 'मेरा बेटा नाबालिग और मानसिक रूप से अस्वस्थ है. वह अक्सर असामान्य व्यवहार करता है. जिसके कारण वह केवल कक्षा पांच तक ही पढ़ाई कर सका. वह चार भाईयों में तीसरे नंबर पर है. दो साल पहले वह बिना किसी को बताए अपने दोस्तों के साथ कहीं चला गया था. अभी कुछ महीने पहले ही बड़ी मुश्किल से उसका पता चला था.'

आरोपी युवक वर्ष 2016 में अचानक घर से भाग गया था और बाद में उसने अपने माता पिता से बताया कि वह कुछ दोस्तों के साथ काम की तलाश में गुजरात आया था. हालात को देखते हुए राज्य के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने प्रवासी श्रमिकों से वापस लौटने का आग्रह किया है. साथ ही श्रमिकों की सुरक्षा को देखते हुए पुलिस संवेदनशील क्षेत्रों में गश्त कर रही है. वहीं व्यवसायों और उद्योगों ने भी लोगों की वापसी पर उन्हें सुरक्षा का आश्वासन दिया है.

सोमवार को राज्य से यूपी, बिहार के लोगों से संबंधित किसी भी तरह की घटना की जानकारी नहीं मिली है. राज्य में धीरे धीरे स्थिति सामान्य हो रही है. अहमदाबाद पुलिस की क्राइम ब्रांच की साइबर सेल ने आईटी अधिनियम की धारा 66 सी और 67 के तहत राज्य में प्रवासी श्रमिकों के खिलाफ हिंसा उकसाने के आरोप में 10 लोगों को गिरफ्तार किया है.

इससे पहले गुजरात पुलिस के डीजीपी शिवानंज झा ने कहा था, 'हिम्मतमनगर रेप मामले के विरोध में कुछ लोग उन लोगों को निशाना बना रहे हैं जो दूसरे राज्यों से आए हैं. यह पूरी तरह से अस्वीकार्य है. हिंसा भड़काने के मामले में हमने 150 से ज्यादा लोगों को गिरफ्तार किया है. हम ऐसे इलाकों में गश्त लगा रहे हैं, जहां अधिक गैर-गुजराती लोग हैं.'

पुलिस ने बताया कि 28 सितंबर को साबरकांठा जिले के हिम्मतनगर कस्बे के पास एक गांव में 14 माह की बच्ची से कथित तौर पर बलात्कार हुआ था. जिसके आरोप में बिहार के रहने वाले रविंद्र साहू नाम के मजदूर को घटना वाले दिन ही गिरफ्तार कर लिया गया था. इसके बाद सोशल मीडिया पर गैर गुजरातियों खासकर बिहार एवं उत्तर प्रदेश के लोगों के खिलाफ घृणा संदेश प्रसारित के बाद पूरे राज्य से कई घटनाएं सामने आईं.


अधिक देश की खबरें

Assembly Election Result 2018: राज्यपाल से मिलकर कमलनाथ ने पेश किया सरकार बनाने का दावा, सिंधिया-दिग्विजय भी थे साथ..

मध्य प्रदेश में बहुजन समाज पार्टी और समाजवादी पार्टी के समर्थन के ऐलान के बाद यहां कांग्रेस ... ...