पीएम नरेंद्र मोदी ने लाल किले पर फहराया तिरंगा, रचा इतिहास
File Photo


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को एक नया इतिहास रच दिया है. वह 15 अगस्त के इतर लाल किले पर तिरंगा फहराने वाले देश के पहले प्रधानमंत्री बन गए हैं. उन्होंने 21 अक्टूबर यानी आज सुभाष चंद्र बोस की 'आजाद हिंद सरकार' की 75वीं सालगिरह के मौके पर लाल किले पर तिरंगा फहराया.

बता दें कि अभी तक देश के प्रधानमंत्री 15 अगस्त को लाल किले पर तिरंगा फहराते और यहां से देश की जनता को संबोधित करते आए हैं. तिरंगा फहराने के बाद पीएम मोदी ने कहा कि 21 अक्टूबर की तारीख भारत के लिए ऐतिहासिक तारीख है और इसी दिन नेताजी ने आजादी की नींव रखी थी.

पिछली सरकार ने सिर्फ एक परिवार के लिए किया काम : पीएम मोदी

इस मौके पर पीएम मोदी ने कहा कि नेताजी ने एक ऐसे भारत का वादा किया था जिसमें हर किसी के पास समान अधिकार और समान मौके ते. उन्होंने एक ऐसे देश का वादा किया था जो हर क्षेत्र में अपनी परंपराओं और विकास पर गौरवान्वित हो. पीएम ने कहा कि बोस ने 'फूड डालो शासन करो' की नीति को जड़ से उखाड़ फेंकने का वादा किया था. पीएम ने कहा कि यह दुखद है कि इतने सालों बाद भी उनके सपने को हम पूरा नहीं कर सके हैं.

पीएम मोदी ने कहा, "हमें कई लोगों की कुर्बानी के बाद स्वराज मिला है. यह हमारी जिम्मेदारी है कि हम इस स्वराज को सुराज के जरिए बनाए रखें."

बता दें कि लाल किले पर तिरंगा फहराने से पहले पीएम मोदी ने राष्ट्रीय पुलिस म्यूजियम का उद्घाटन करते हुए ऐलान किया कि सुभाष चंद्र बोस के नाम पर हर साल जवानों को सम्मानित किया जाएगा. पीएम ने कहा कि पुरस्कारों की घोषणा हर साल 23 जनवरी को बोस के जन्मदिन पर होगी.


अधिक देश की खबरें