अमृतसर रेल हादसाः ड्राइवर ने कहा, 'मैंने ब्रेक लगाया लेकिन ट्रेन रुकी नहीं, लोग पत्थर फेंकने लगे तो बढ़ा दी स्पीड'
File Photo


अमृतसर में दशहरा उत्सव के दौरान हुए रेल हादसे में 61 लोगों की मौत के बाद जीआरपी ने इस मामले में एफआईआर दर्ज कर ली है. जीआरपी ने इस मामले में घटना के वक्त ट्रेन चला रहे ड्राइवर अरविंद कुमार से भी पूछताछ की. कुमार ने बताया कि उन्होंने इमरजेंसी ब्रेक लगाया था लेकिन ट्रेन रुकी नहीं और गुस्साए लोग ट्रेन पर पत्थर फेंकने लगे थे.

रेलवे प्रशासन को दिए लिखित बयान में अरविंद कुमार ने कहा कि जब उन्हें ट्रैक के पास लोग दिखे तो उन्होंने इमरजेंसी ब्रेक लगाया और लगातार हॉर्न भी बजाया.

हमें कुमार की वो चिट्ठी मिली है जो उन्होंने रेलवे प्रशासन को अपनी सफाई में लिखी है. उन्होंने लिखा है कि उन्हें ग्रीन सिग्नल दिया गया था इसलिए वह सामान्य स्पीड में आगे बढ़ गए. इसके बाद वह जोड़ा फाटक पहुंचे जहां पर उन्हें डबल येलो लाइट दिखी जिसका मतलब होता है कि गाड़ी की स्पीड कम करनी है. उन्होंने स्पीड कम की लेकिन कुछ ही दूर में उन्हें ट्रैक पर लोगों की भीड़ दिखी. उन्होंने लिखा, "मैंने इमरजेंसी ब्रेक लगाया और लगातार हॉर्न बजाने लगा. ट्रेन की स्पीड तेजी से कम हुई लेकिन फिर भी लोग उसकी चपेट में आ गए. गाड़ी लगभग रुकने के करीब थी तभी लोगों का एक हुजूम मेरी गाड़ी पर पत्थर से हमला करने लगा."

अरविंद कुमार ने आगे लिखा कि गाड़ी में सवार यात्रियों की सुरक्षा को देखते हुए उन्होंने गाड़ी को आगे बढ़ाने का फैसला किया. उन्होंने लिखा कि अमृतसर स्टेशन पहुंचते ही उन्होंने अपने सीनियर अधिकारियों को इस संबंध में जानकारी दी.

इस मामले में जीआरपी ने भारतीय दंड संहिता की धारा 304, 304 ए और 338 के तहत मामला दर्ज किया है. अमृतसर पूर्व विधानसभा क्षेत्र के वार्ड नंबर 29 से मौजूदा पार्षद विजय मदान के घर पर हमले के बाद पुलिसकर्मियों को तैनात कर दिया गया है. हादसे से पहले कार्यक्रम स्थल का एक वीडियो भी वायरल हो रहा है जिसमें मुख्य अतिथि के तौर पर कांग्रेस नेत्री और पूर्व सांसद नवजोत कौर सिद्धू दिख रही हैं.

ट्रेन हादसे से कुछ मिनट पहले आयोजकों ने कहा था, "मैडम (नवजोत कौर सिद्धू) यहां देखें. 5000 से ज्यादा लोग रेलवे ट्रैक पर कार्यक्रम देखने के लिए खड़े हैं. इस रेलवे ट्रैक पर अगर 500 ट्रेनें भी गुजर जाएं तो इन्हें इसकी परवाह नहीं है." कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि पहुंची नवजोत कौर सिद्धू से ट्रैक पर मौजूद लोगों के बारे में पूछने पर उन्होंने कहा कि स्टेज से कई बार इस संबंध में घोषणा की गई. लोगों से धोबी घाट ग्राउंड की ओर जाने के लिए कहा गया जहां रावण दहन होना था.

शुक्रवार को अमृतसर की घटना में 60 लोग मारे गए जिसमें महिलाएं और बच्चे भी शामिल है. जोड़ा बाजार फाटक के पास रावण दहन के दौरान लोग ट्रैक पर खड़े थे. इसी दौरान ट्रैक पर दो रेल गाड़ियां आ गईं और लोग चपेट में आ गई. 


अधिक देश की खबरें