जानिए क्यों दो दिन से सुपुर्द-ए-खाक के इंतजार में है मर्चेंट नेवी अफसर की डेड बॉडी
File Photo


गाजियाबाद के थाना इंदिरापुरम क्षेत्र में वैशाली के रहने वाले मर्चेंट नेवी अफसर सुल्तान अहमद की हादसे के दौरान मौत हो गई. उसकी डेड बॉडी दो दिन पहले गाजियाबाद के वैशाली उसके आवास पर आई थी. लेकिन परिजनों ने शव के अंतिम संस्कार से मना कर दिया है. सुल्तान के परिवारवालों ने मौत की वजह पर शक जताते हुए गाजियाबाद की डीएम से गुहार लगाई है. उन्होंने ग़ाज़ियाबाद में पोस्टमार्टम कराने की मांग की है ताकि मौत के सही कारणों का पता लग सके.

बता दें कि सुल्तान अहमद (28) की डेड बॉडी दो दिन पहले अमेरिका के हृयूस्टन, टेक्सास से लाई गई है. सुल्तान मर्चेन्ट नेवी में थे, मुम्बई की VR Maritime Services Pvt. Ltd में वह सी मैन के पद पर कार्यरत थे. सुल्तान ने 3 साल पहले ये कम्पनी ज्वाइन की थी. 28 सितम्बर को सुल्तान 45 दिन के प्रोजेक्ट पर गए थे. लेकिन 3 नवम्बर को कम्पनी के दिल्ली ऑफिस से कुछ लोग वैशाली स्थित घर आए और बताया कि सुल्तान की अमेरिका के कोस्ट आॅफ कैमरन, लुइसियाना में आॅफ शोर रिंग पर गैस लीकेज से हुई दुर्घटना में मौत हो गई है. इस दुर्घटना में सुल्तान के साथ दो और लोग मारे गए हैं, जिनके नाम संजय कुमार यादव और गुरमेल सिंह हैं.

सुल्तान अहमद की डेडबॉडी का हो पोस्टमॉर्टम: परिजन
उधर परिजनों का कहना है कि जो डेथ सर्टिफिकेट मिला है, उस पर 14 नवम्बर तारीख लिखी है. बरियल ट्रांज़िट परमिट 13 नवम्बर को मिला है, जिस पर लिखा है कि बॉडी पूरी तरह डिकम्पोज़ड हो चुकी है. डेड बॉडी 18 नवम्बर को दिल्ली पहुंची. परिवार को शक है कि सुल्तान अहमद की मौत के पीछे कम्पनी की लापरवाही है, जिसकी वजह से सुल्तान के शव को इतने दिन तक वहां रखा गया. उन्हेें सबूतों से छेड़छाड का भी शक है. फिलहाल डीएम ने यहां पोस्टमार्टम की परमिशन नही दी है.

परिवार की मांग है कि इसकी मौत की जांच की जाए और इन्हें मुआवज़ा भी मिले. सुल्तान अहमद के पिता का नाम वहीद है. वह साप्ताहिक बाज़ारों में पटरी लगाकर परिवार का गुज़ारा चलाते हैं. वहीं पीड़ित परिवार के लोग एडीएम से लेकर डीएम दफ्तर तक चक्कर लगा रहे हैं लेकिन उनहें फिलहाल कोई कोई मदद नहीं मिली है. उधर दो दिन बीत जाने के बाद भी डेड बॉडी का अभी तक अंतिम संस्कार नही किया गया है. परिवार अपने बेटे का दोबारा पोस्टमार्टम करवाना चाहता है और जिस कम्पनी ने उसे अमेरिका भेजा उसके खिलाफ कार्यवाही चाहता है.


अधिक राज्य की खबरें