बुलंदशहर हिंसा: गोकशी के तीन आरोपियों को पुलिस ने दबोचा
File Photo


बुलंदशहर के स्याना में भड़की हिंसा मामले में पुलिस ने गोकशी के तीन आरोपियो को गिरफ्तार किया है. पुलिस ने नदीम, रहीस व काला को गिरफ्तार किया है. पुलिस के मुताबिक 3 दिसंबर को स्याना में हुई गोकशी की वारदात में ये तीनों शामिल थे.

पुलिस ने बताया कि तीनों ही गोवंशों का शिकार करते थे. आरोपियों के पास से पुलिस ने लाइसेंसी बंदूक, जिप्सी, और कट्टी के ओजार बरामद किए हैं. गौरतलब है कि स्याना कोतवाली के चिंगरावठी गांव में गोवंश के अवशेष मिलने के बाद ग्रामीण भड़क उठे थे. जिसके बाद 400-500 की भीड़ ने चिंगरावठी चौकी पर हमला कर दिया और चौकी समेत कई वाहनों में आग लगा दी. इतना ही नहीं गोवंश के अवशेषों के साथ रोड को जाम लगा दिया था. इस हिंसा में इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह आयर एक ग्रामीण सुमित की गोली लगने से मौत हो गई थी. मामले में पुलिस ने गोकशी और हिंसा और बवाल की दो अलग-अलग एफआईआर दर्ज की है.

बुलंदशहर हिंसा मामले में 27 नामजद लोगों और 50-60 अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है. अभी तक पुलिस ने 17 आरोपियों को गिरफ्तार किया है जबकि एक मुख्य आरोपी विशाल त्यागी ने सोमवार शाम को कोर्ट में सरेंडर कर दिया. मुख्य आरोपी बजरंग दल का जिला संयोजक योगेश त्यागी अभी भी फरार चल रहा है. हालांकि पुलिस का कहना है कि आरोपियों की तलाश में लगातार दबिश दी जा रही है. कुर्की के नोटिस भी चस्पा किए जा चुके हैं. लेकिन पुलिस को अभी भी योगेश का कोई सुराग नहीं मिला है.

उधर अखिल भारतीय संत परिषद के संयोजक यति नरसिंहानंद सरस्वती ने स्याना हिंसा की न्यायिक जांच की मांग करते हुए रविवार से राजेबाबू पार्क के पास आमरण अनशन शुरू कर दिया है. उन्होंने कहा कि गोकशी का विरोध करने वाले निर्दोष लोगों को मुक़दमे में फंसाकर जेल भेजा जा रहा है. जबकि सुमित के परिजनों को न्याय नहीं दिलाया जा रहा है. साथी एक फौजी के सम्मान को ठेस पहुंचाई गई है.


अधिक राज्य की खबरें