शिवपाल ने BSP-SP गठबंधन को कहा 'ठगबंधन', बोले- हम कांग्रेस से हाथ मिलाने को तैयार
File Photo


समाजवादी पार्टी (सपा) से अलग होकर प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया (पसपा) बनाने वाले शिवपाल यादव का कहना है कि उनकी पार्टी उत्तर प्रदेश में कांग्रेस के साथ गठबंधन करने को तैयार है. शिवपाल यादव ने कहा कि सपा ने गठबंधन को लेकर हमसे कोई बात नहीं की है. सपा और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के गठबंधन को 'ठगबंधन' करार देते हुए शिवपाल ने कहा कि यह गठबंधन पैसों के लिए किया गया है. उन्होंने गठबंधन से पहले पैसों के लेन-देन का भी आरोप लगाया है.

शिवपाल यादव ने कांग्रेस के साथ गठबंधन करने के सवाल पर कहा, "फिलहाल कांग्रेस से इस बारे में कोई बातचीत नहीं हुई है. कांग्रेस भी एक सेक्युलर पार्टी है और अगर वह भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) को हराने के लिए हमसे संपर्क करती है तो हम उसका समर्थन करेंगे." शिवपाल ने कहा, "हमारे बिना कोई भी गठबंधन बीजेपी को हरा नहीं सकता है. आगामी लोकसभा चुनाव में बीजेपी को हराने और उसे सत्ता से बेदखल करने के लिए हमारी पार्टी अन्य सेक्युलर पार्टियों से गठबंधन करने को तैयार है.'

शिवपाल ने कहा कि वर्ष 1993 में जब सपा-बसपा का गठबंधन हुआ था, उस वक्त दोनों ही पार्टियों पर कोई आरोप नहीं था और ना ही सीबीआई का कोई डर था. उन्होंने कहा, "आज तो सीबीआई का ही डर है. इस डर की वजह से यह गठबंधन हो रहा है. यह गठबंधन सफल नहीं होगा."

बता दें कि शनिवार को एसपी-बीएसपी ने औपचारिक ऐलान किया कि दोनों पार्टियां यूपी की 38-38 सीटों पर मिलकर चुनाव लड़ेंगी.

इससे पहले सपा और बसपा के बीच हुए गठबंधन में जगह न मिलने के बाद कांग्रेस ने ऐलान किया है कि वह उत्तर प्रदेश की सभी 80 लोकसभा सीटों पर अकेले चुनाव लड़ेगी. लखनऊ में कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी गुलाम नबी आजाद ने कहा, "राहुल गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस यूपी की सभी सीटों पर चुनाव लड़ेगी और बीजेपी को हराएगी. पूरी दुनिया जानती है कि लड़ाई बीजेपी और कांग्रेस के बीच है. इस लड़ाई में हमारे साथ आने वालों को हम स्वागत करेंगे. यह किसी एक की लड़ाई नहीं बल्कि भारत को एक रखने के लिए सिद्धांतों की लड़ाई है."


अधिक राज्य की खबरें