शीला दीक्षित बोलीं- AAP जैसी छोटी पार्टियां आती-जाती रहती हैं, उनसे कोई गठबंधन नहीं
File Photo


दिल्ली प्रदेश कांग्रेस की नवनियुक्त अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने आम आदमी पार्टी (AAP) के साथ गठबंधन की संभावनाओं को खारिज कर दिया है. उन्होंने कहा कि AAP बहुत छोटी पार्टी है. ऐसी पार्टियां आती-जाती रहती हैं. शीला दीक्षित ने कहा, 'कांग्रेस अकेले चुनाव लड़ने में सक्षम है. हमें किसी से गठबंधन करने की कोई जरूरत नहीं है.

शीला दीक्षित ने दिल्ली असेंबली में अरविंद केजरीवाल की पार्टी द्वारा पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी से 'भारत रत्न' सम्मान वापस लेने के प्रस्ताव की आलोचना की. उन्होंने कहा, 'इस पार्टी ने जो किया, उसके बाद तो गठबंधन का कोई सवाल ही पैदा नहीं होता. मैंने इसके पहले भी कई मौकों पर कहा है कि कांग्रेस को गठबंधन से दूर रहना चाहिए और अकेले चुनाव लड़ना चाहिए. हमें संगठन के लिए एकजुट होना है और लड़ना है.'

उन्होंने कहा, 'आम आदमी पार्टी को लेकर हमें चिंता करने की जरूरत नहीं है. ये एक ऐसी पार्टी है, जिसका अस्तिव सिर्फ दिल्ली में ही है. बाकी राज्यों में AAP कहीं भी नहीं है. ऐसी छोटी पार्टियां आती जाती रहती हैं.'

2019 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी को हराने के लिए विपक्ष के 'महागठबंधन' की जरूरत के सवाल पर शीला दीक्षित ने कहा, 'इसमें कोई शक नहीं है कि आम चुनाव में कांग्रेस बीजेपी का सफाया कर देगी.'

दिल्ली की पूर्व सीएम शीला दीक्षित ने कहा, 'कांग्रेस को नज़रअंदाज़ नहीं किया जा सकता. क्षेत्रीय पार्टियां अभी इतनी मजबूत नहीं हुई हैं कि वो ऐसा कर सके. बेशक उन्होंने हाल के चुनाव में कुछ सीटें जीत ली हैं, लेकिन इसका ये कतई मतलब नहीं है कि क्षेत्रीय पार्टियां मजबूत हो गईं और कांग्रेस एक-दो चुनाव हार गई, तो वो खत्म हो गई.'

बसपा और सपा जैसी क्षेत्रीय पार्टियां सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस पर भरोसा नहीं कर पाईं, क्या इसलिए दोनों ने प्री-पोल अलायंस से हाथ खींच लिए? इस सवाल पर उन्होंने कहा, 'आपका क्या मतलब है कि क्या वो पार्टियां कांग्रेस पर विश्वास नहीं करती? मैं आपसे बस एक बात कहना चाहती हूं. आप देश में और अपने आसपास जो बदलाव और विकास देख रहे हैं. वो सिर्फ कांग्रेस की बदौलत है. पहले देश में कौन था? कांग्रेस ही ना. बीजेपी तो अभी आई है.'

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष ने देश में बीजेपी की लहर होने से भी इनकार किया. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भगवा पार्टी कोई अजेय नहीं है. शीला दीक्षित ने कहा, 'मुझे नहीं लगता कि वो अजेय हैं और हम उन्हें कभी नहीं हरा सकते. देश में कहीं भी मोदी या बीजेपी लहर नहीं है, ये सब बस मीडिया ने बना रखा है. बेशक लोग खुलकर बात करने से बच रहे हैं, चाहे वो किसी भी कारण से ऐसा कर रहे हो; लेकिन वास्तविकता यही है कि जैसे नेता की देश को जरूरत है, मोदी निश्चित तौर पर वैसे नेता नहीं हैं.'


अधिक देश की खबरें