लोकसभा चुनाव के दौरान यहां रहेंगी प्रियंका गांधी!
file photo


कांग्रेस महासचिव बनाए जाने के बाद प्रियंका गांधी चुनाव प्रचार कहां से शुरू करेंगी, चुनावों के दौरान वे कहां रुकेंगी, चुनाव की रणनीति बनाने में उनका सबसे करीबी कौन रहेगा. ये ऐसे सवाल हैं जो राजनीति की फिजा में तेजी से उभर रहे हैं और कांग्रेस के पास उत्तर प्रदेश में 'करो या मरो' जैसे हालात हैं. इन हालातों में उत्तर प्रदेश के पार्टी नेता प्रियंका गांधी के एक-एक मिनट का सदुपयोग कर लेना चाहते हैं.

गांधी परिवार के सदस्यों के रायबरेली और अमेठी के दौरे की पूरी व्यवस्था करने वाले एक नेता की मानें, तो पूरे लोकसभा चुनाव के दौरान प्रियंका रायबरेली और अमेठी को ही अपना स्थायी आशियाना बनाएंगी. इस लिहाज से उन्हें पार्टी ने पूर्वी उत्तर प्रदेश की बागडोर सौंपी है. 2004 में सोनिया गांधी का प्रचार संभालने पहुंचीं, प्रियंका स्थानीय निवासी और कांग्रेस के कार्यकर्ता रमेश बहादुर के घर एक महीने तक रुकीं थीं.

ऐसे में कांग्रेस कार्यकर्ताओं के लिए रायबरेली या अमेठी में प्रियंका गांधी के लिए आशियाना तलाशना मुश्किल नहीं होगा. कांग्रेस आलाकमान और प्रियंका गांधी के दौरे का जिम्मा संभालने वालों सूत्रों की मानें, तो अब तक बनाई गई रणनीति के अनुसार प्रियंका दिन में प्रदेश के अलग-अलग हिस्सों में रैली और जनसंपर्क का काम करेंगी. लेकिन, उनकी सुबह और शाम रायबरेली और अमेठी में ही बीतेगी.

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में भी प्रियंका के लिए एक आशियाने की तलाश की जा रही है, क्योंकि पार्टी की ज्यादातर बैठकें लखनऊ में होंगी. ऐसे में गाहे-बगाहे प्रियंका गांधी को लखनऊ में भी रुकना पड़ सकता है. पूर्वी उत्तर प्रदेश की प्रभारी बनने के पहले प्रियंका ने केंद्रीय नेतृत्व से प्रत्याशी के चयन में भी अपनी भूमिक साफ कर ली है. प्रियंका गांधी की हरी झंडी के बिना पूरे उत्तर प्रदेश में कोई उम्मीदवार तय नहीं किया जाएगा. साफ है प्रियंका यह संदेश साफ-साफ देना चाहती हैं कि देर आए दुरुस्त आए.


अधिक राज्य की खबरें