टैग: #लखनऊ,#रणभेरी,# उत्तर प्रदेश,#राजनीतिक हलचलें,
ये सिर्फ चुनाव की ही नहीं, महापरिवर्तन की भी घोषणा: अखिलेश
अखिलेश यादव ने ट्वीट



लखनऊ। रणभेरी बजने के साथ ही सियासी लिहाज से सबसे महत्वपूर्ण राज्य उत्तर प्रदेश में राजनीतिक हलचलें बढ़ाना स्वाभाविक है। आमतौर पर दिल्ली का गद्दीनशीं तय करने वाले इस सूबे में खासकर भाजपा की साख दांव पर होगी, वहीं सपा-बसपा गठबंधन के लिए भी यह चुनाव बहुत अहम है। वहीं सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ट्वीट कर लिखा है कि चुनाव की घोषणा से जनता में नया उत्साह है। अब जनता किसानों की बदहाली, नौजवानों की बेरोजगारी और कारोबारियों की बर्बादी के लिए जिम्मेदार लोगों को करारा जवाब देगी। बहुत हुआ भावनाओं से खिलवाड़, अब सत्तापक्ष को हवाई बातों के आसमान से उतरकर कड़वी जमीनी सच्चाई का सामना करना ही होगा। ये सिर्फ चुनाव की ही नहीं, निकट भविष्य में देश और जनहित में होने वाले ‘महापरिवर्तन’ की भी घोषणा है... स्वागत है! बता दें कि निर्वाचन आयोग द्वारा जारी कार्यक्रम के मुताबिक 80 लोकसभा सीटों वाले उत्तर प्रदेश में सात चरणों में लोकसभा चुनाव होगा। तेज गर्मी में हो रहे इस चुनाव में प्रदेश का सियासी पारा चरम पर पहुंचने की पूरी सम्भावना है। वर्ष 2014 में हुए लोकसभा चुनाव में भाजपा ने 71 और उसके सहयोगी अपना दल ने दो सीटें जीती थीं। यह लोकसभा चुनाव सपा और बसपा गठबंधन के भविष्य को भी तय करेगा। कभी घोर प्रतिद्वंद्वी रहे सपा और बसपा ने अपने तमाम गिले-शिकवे भुलाकर इस चुनाव में भाजपा को हराने के लिए हाथ मिलाया है।


अधिक राज्य की खबरें