पांच सवालो के जबाब देने पर आठ लाख वोट दिलाने का वायदा
आरक्षण


लखानऊ। आरक्षण बचाओ संघर्ष समिति ने राजनैतिक दलों के सामने पांच सवाल रखें है। समिति ने दावा किया है कि इसका जबाब देने वाली पार्टी को आठ लाख वोटर परिवार सहित वोट देगें। आरक्षण बचाओ संघर्ष समिति संयोजक मण्डल की तरफ से आज बहुजन नायक मान्यवर कांशीराम साहब के जन्मदिन पर उन्हें याद करते हुए आरक्षण समर्थकों ने उनके चित्र पर पुष्प अर्पित किये। आरक्षण समर्थकों ने कहा कि मान्यवर कांशीराम साहब की ही देन है कि उनके द्वारा पूरे देश के दलित व पिछड़े वर्ग के कार्मिकों को एकजुट करने के लिये बामसेफ की स्थापना की गयी थी। उसके बाद पूरे देश में दलित कार्मिकों में चेतना आई और आज विभागवार हर सरकारी विभाग में आरक्षण समर्थक कार्मिकों का एक मजबूत संगठन है। 
आरक्षण बचाओ संघर्ष समिति के संयोजकों अवधेश कुमार वर्मा, केबी राम,  ने कहा हम सभी को अपने अधिकारों को प्राप्त करने के लिये हमेशा एकजुट रहना होगा। इस अवसर पर आरक्षण बचाओ संघर्ष समिति संयोजक मण्डल ने देश व प्रदेश के सभी राजनीतिक दलों से अपने संवैधानिक अधिकारों पर 5 सवाल करते हुए यह ऐलान किया है, जो दल उनके सवालों पर खरा उतरेगा पूरे प्रदेश का 8 लाख आरक्षण समर्थक कार्मिक और उसका परिवार व रिश्तेदार उसे पार्टी को अपना 100 प्रतिशत वोट करेगा। पहला सवाल सभी पार्टियां यह बतायें कि पिछले 5 वर्षों से ज्यादा समय से लोकसभा में पदोन्नति में आरक्षण का बिल लम्बित है, उसको पास कराने में उनकी पार्टी का क्या योगदान रहा? दूसरा सवाल सुप्रीम कोर्ट की संविधान पीठ द्वारा पारित आदेश के बावजूद भी आज तक उप्र में पदोन्नति में आरक्षण की व्यवस्था क्यों नही बहाल की गयी? तीसरा सवाल सुप्रीम कोर्ट द्वारा पारित आदेश के बाद आज तक उप्र की सरकार द्वारा 2 लाख दलित कार्मिकों का रिवर्शन क्यों नहीं वापस किया गया उस पर सभी अपना मत बतायें। चैथा सवाल पिछड़े वर्गों के लिये उ0प्र0 में पूर्व में लागू पदोन्नति में आरक्षण की व्यवस्था बहाल कराने में उनकी क्या राय है? पांचवा और अन्तिम सवाल आरक्षण को संविधान की 9वीं सूची में डालने पर पार्टियों की क्या राय? 


अधिक राज्य की खबरें