प्रतिमाह तीन हजार देने का वादा सपा का घोषणा पत्र
अखिलेश यादव ने शुक्रवार को सपा मुख्यालय में घोषणा पत्र जारी करते


लखनऊ। लोकसभा चुनाव 2019 में बहुजन समाज पार्टी व राष्ट्रीय लोकदल के साथ गठबंधन करने वाली समाजवादी पार्टी ने आज अपना घोषणा पत्र जारी कर दिया। समाजवादी पार्टी के कार्यालय में अध्यक्ष अखिलेश यादव ने घोषणा पत्र जारी किया। उनके साथ पार्टी के प्रवक्ता राजेंद्र चैधरी भी थे। 
सपा ने अपने घोषणा पत्र में समाजवादी पेंशन योजना के तहत जरूरतमंद परिवारों की महिलाओं को तीन हजार रुपये प्रतिमाह देने का वादा किया है। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने शुक्रवार को सपा मुख्यालय में घोषणा पत्र जारी करते हुए इसे विजन डॉक्यूमेंट बताया। अखिलेश ने ढाई करोड़ से अधिक संपत्ति वालों पर दो फीसद का अतिरिक्त टैक्स लगाने, जीडीपी का छह फीसद शिक्षा पर खर्च करने सहित कई बिंदुओं को शामिल किया है। अखिलेश ने सामाजिक न्याय के लिए जातिगत आंकड़े सार्वजनिक करने की मांग की है। उनका कहना है कि देश के 10 फीसद सामान्य वर्ग के लोग 60 फीसद राष्ट्रीय संपत्ति पर काबिज हैं।
समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने लोकसभा चुनाव के लिए पार्टी का विजन डॉक्यूमेंट (चुनाव घोषणापत्र) पेश किया। विजन डॉक्यूमेंट में उन्होंने सामाजिक न्याय से महापरिवर्तन की बात कही है। विजन डॉक्यूमेंट में अखिलेश ने कहा कि आज देश में अमीर और भी अमीर हो गया है। देश में 10 प्रतिशत समृद्ध (जिनमें से ज्यादातर सवर्ण हैं) के पास देश की 60 प्रतिशत राजकीय संपत्ति है। अखिलेश यादव ने कहा है कि आज देश की आधी आबादी के पास देश की कुल आय का आठ प्रतिशत धन है। यहां गरीब प्रतिदिन गरीब होता गया है। उनकी सरकार आती है तो देश के उन 0.1 प्रतिशत अमीरों पर दो प्रतिशत अतिरिक्त टैक्स लगाएंगे जिनकी संपत्ति ढाई करोड़ से अधिक है। इस अतिरिक्त टैक्स से सामाजिक न्याय में वृद्धि होगी।समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने लोकसभा चुनाव के लिए पार्टी का विजन डॉक्यूमेंट (चुनाव घोषणापत्र) पेश किया। विजन डॉक्यूमेंट में उन्होंने सामाजिक न्याय से महापरिवर्तन की बात कही है। विजन डॉक्यूमेंट में अखिलेश ने कहा कि आज देश में अमीर और भी अमीर हो गया है। देश में 10 प्रतिशत समृद्ध (जिनमें से ज्यादातर सवर्ण हैं) के पास देश की 60 प्रतिशत राजकीय संपत्ति है। अखिलेश यादव ने कहा है कि आज देश की आधी आबादी के पास देश की कुल आय का आठ प्रतिशत धन है। यहां गरीब प्रतिदिन गरीब होता गया है। उनकी सरकार आती है तो देश के उन 0.1 प्रतिशत अमीरों पर दो प्रतिशत अतिरिक्त टैक्स लगाएंगे जिनकी संपत्ति ढाई करोड़ से अधिक है। इस अतिरिक्त टैक्स से सामाजिक न्याय में वृद्धि होगी। अखिलेश यादव ने कहा कि सभी के लिए शिक्षा एक मौलिक अधिकार है। स्कूलों का निर्माण करना ही पर्याप्त नहीं है। हम इस दिशा में अलग तरह से सोचते हैं, ताकि देश के प्रत्येक छात्र को अनिवार्य, निरूशुल्क एवं गुणवत्ता युक्त शिक्षा मिल सके। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि बिना प्राइमरी एजुकेशन को ठीक किये कुछ सही नहीं हो सकता। हमारी सरकार बनने पर हम केंद्रीय आरक्षण के नवीन आंकड़ों को जारी करेंगे, ताकि देश में प्रत्येक जाति की जनसंखा का सही आंकलन किया जा सके।
अखिलेश यादव ने कहा कि हमारा देश युवा है। देश की 50 फीसदी आबादी 25 वर्ष से कम और 60 फीसदी आबादी 30 वर्ष से कम की है। ज्यादातर नौजवान बेरोजगार या अर्ध बेरोजगार है। देश के लिए सबसे बड़ा खतरा बढ़ती बेरोजगारी है। इसके अतिरिक्त अन्य किसी मुद्दे पर बात करना देश के भविष्य को तबाह करने जैसा होगा। युवा अच्छी तरह से जानता हैकि किस तरह से नोटबंदी ने उनका रोजगार छीन लिया और जीएसटी ने छोटे उद्योगों को बंद कर दिया। इसके बावजूद प्रधानमंत्री अपने कामकाज पर लोगों को भरोसा करने के लिए कह रहे हैं, जबकि हमारे नौजवानों को हर समस्या की बारीक समझ है। नौजवान चाय और पकौड़े के स्टॉल लगाने की उनकी सलाह की निरर्थकता को बखूबी समझ रहे हैं। हम उत्तर प्रदेश में सपा सरकार के कार्यकाल में हुए कार्य की ही भांति पूरे देश में बदलाव करना चाहते हैं। किसान भाइयों और युवाओं के लिए विश्वस्तरीय एक्सप्रेस-वे एवं सड़कों का निर्माण कराया जाएगा, ताकि स्कूल, बाजार और ऑफिस तक यातायात सुगम हो। सार्वजनिक यातायात सुविधा ज्यादातर लोगों के लिए महत्वपूर्ण है। सार्वजनिक यातायात की दिशा में लखनऊ मेट्रो ने बेहतरीन उदाहरण पेश किया है।घोषणा पत्र के बारे में उन्होंने कहा कि सामाजिक न्याय से महापरिवर्तन को जनता के बीच ले जाने का काम इस किताब के माध्यम से किया जा रहा है। हमारे दल की विचारधारा के क्या विचार हों उसको लेकर जनता के बीच जा रहे हैं। नोटबंदी से व्यापारी उबर भी नहीं पाए थे कि जीएसटी ने उनकी कमर तोड़ दी। उन्होंने कहा कि सबका साथ सबका विकास के लिए एक साथ आना होगा। हम तो किसान का पूरा कर्ज माफ होने के पक्ष में हैं। बिना महिलाओं को बराबर का सम्मान दिये विकास अधूरा है। अखिलेश ने अपने विजन डॉक्यूमेंट में भाजपा पर सेना के राजनीतिक हथियार के तौर पर इस्तेमाल करने का भी आरोप लगाया है। उन्होंने कहा है कि भाजपा का छद्म राष्ट्रवाद हमारी राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए किसी भी बहरी ताकत से ज्यादा खतरनाक है। सपा मुखिया अखिलेश ने सरकार बनने पर अहीर बख्तरबंद रेजिमेंट और गुजरात इन्फेंट्री की स्थापना की बात भी कही है। इसके साथ ही कहा है कि सैन्य कर्मियों की पत्नियों एवं उनके परिवारों के लिए राज्य आधारित लोक कल्याण योजना की शुरुआत करेंगे। देश में चुनाव अपनी गति से चल रहा है। सपा-बसपा-आरएलडी गठबंधन जनता से सीधा संवाद कर रहा है। बिना सामाजिक न्याय के गरीबी के खिलाफ लड़ाई एक धोखा है। केंद्र की सरकार बेरोजगारी के आंकड़े छुपा रही है। बिना इसको बताए देश खघ्ुशहाली के रास्ते पर नहीं जा सकता। अखिलेश यादव ने कहा कि हम चाहते हैं कि सेना में अहीर रेजिमेंट बने। उन्होंने कहा कि यूपी ने कई प्रधानमंत्री दिये हैं। अगर यूपी से इस बार भी कोई पीएम बनेगा तो मुझे बड़ी खुशी होगी। जिस सवाल को भाजपा उठा रही है वो बता दे कि आतंकवादी को जहाज में बैठाकर किसने छोड़ा था। किसानों की समस्या राष्ट्रीय समस्या है और इसके समाधान के लिए राष्ट्रीय स्तर पर प्रयास होना चाहिए। देश में कृषि संबंधित समस्या का निदान कोई भी प्रदेश सरकार अकेले नहीं कर सकती। हम लोग किसान भाईयों की प्रत्येक समस्या के साथ हर स्तर पर खड़े हैं और इस दिशा में जाति, पंथ या धर्म को भुलाकर स्वर्णिम क्रांति लाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। बच्चे पढ़ाई में बहुत पैसे खर्च करते हैं लेकिन उन्हें नौकरी नहीं मिलती है। भाजपा को कोई जानकरी नहीं, सिर्फ लोगों को धोखा देना आता है। हमने जो काम किया वही हमारी विश्वसनीयता है। अखिलेश यादव ने कहा कि बिना प्राइमरी एजुकेशन को ठीक किये कुछ सही नहीं हो सकता। उन्होंने कहा कि सबका साथ सबका विकास के लिए एक साथ आना होगा। हम तो किसान का पूरा कर्ज माफ होने के पक्ष में हैं। बिना महिलाओं को बराबर का सम्मान दिये विकास अधूरा है। 


अधिक राज्य की खबरें