नगर निगम कार्मियां मागें 50 करोड़
नगर निगम कर्मचारी संघ, लखनऊ द्वारा ज्ञापन दिया


लखनऊ। एक मुश्त समाधान योजना एवं राज्य वित्त आयोग से धनराशि मिलने के बाद नगर निगम कर्मचारी संघ लखनऊ कर्मचारियों के बकाए भुगतान के लिए सक्रिय हो गया है।  नगर निगम कर्मचारी संघ, लखनऊ द्वारा आज 12 अप्रैल 2019 को महापौर, नगर निगम लखनऊ से वार्ता कर कर्मचारियों-अधिकारियों के लेखा विभाग में लम्बित लगभग रु. 50 करोड़ (रु. पचास करोड़) से अधिक की धनराशि का शीघ्र भुगतान कर्मचारियों अधिकारियों के हित में किये जाने के सम्बन्ध में ज्ञापन दिया गया।
संघ अध्यक्ष आनन्द वर्मा एवं महामंत्री  राम अचल द्वारा वार्ता के क्रम में माननीया महापौर  को अवगत कराया गया कि राज्य वित्त आयोग के अंर्तगत रु. लगभग 48 करोड़ एवं गृहकर की एकमुश्त समाधान योजना (ओ.टी.एस.) के अंतर्गत मार्च माह में लगभग 55 करोड़ की धनराशि नगर निगम लखनऊ को प्राप्त हुई है जबकि लेखा विभाग में कर्मचारियों-अधिकारियों के भविष्य निधि, ग्रेज्युटी, अर्जित अवकाश, बीमा, कल्याण कोष, महंगाई भत्ता, सुनिश्चित कैरियर प्रोन्नयन, बोनस के मद में लगभग 50 करोड़ से अधिक की धनराशि के बिल भुगतान हेतु लम्बित है जिस कारण कर्मचारियों-अधिकारियों में व्यापक रोष व्याप्त है। संघ द्वारा कर्मचारियों की भावनारूप माननीया महापौर से तत्काल भुगतान के सम्बन्ध में दिशा-निर्देश दिये जाने की माँग की गयी।  महापौर द्वारा संघ के पदाधिकारियों को आश्वासन दिया गया कि ओ.टी.एस. की योजना ही लम्बित देयता के भुगतान के लिए कराई गई है। जल्द ही कर्मचारियों-अधिकारियों के लम्बित देयों का भुगतान किया जायेगा। आज की वार्ता में  चंद्र प्रकाश अग्निहोत्री, अध्यक्ष उ.प्र. स्थानीय निकाय सेवानिवृत्त अधिकारी कर्मचारी परिषद, नगर निगम लखनऊ, रामचंदर यादव, संरक्षक, आनंद वर्मा, अध्यक्ष, रामअचल, महामंत्री, ओम प्रकाश उप्रेती, वरिष्ठ उपाध्यक्ष, मो. शोएब, शमील एखलाक, उपाध्यक्ष, मिर्जा इरशाद बेग, विजयलक्ष्मी, रेखा यादव, मंत्री, हेमन्त कुमार, कोषाध्यक्ष, अर्जुन यादव, संगठन मंत्री, शत्रोहन लाल, प्रचार मंत्री, सतेन्द्र कुमार, मो. शमशाद, अनुज गुप्ता, जाकिर अली, सुखदेव यादव, मनीष पाल उपस्थित रहे। 


अधिक राज्य की खबरें