दरोगा के बेटे की छेड़छाड़ से परेशान छात्रा की आत्महत्या की कोशिश
दरोगा का बेटा राज कुमार


लखनऊ। इंदिरानगर इलाके में एक दरोगा के दबंग बेटे की छेड़छाड़ से आहत छात्रा ने बृहस्पतिवार शाम अपने घर की दूसरी मंजिल से छलांग लगा दी। एलआईयू में तैनात छात्रा के पिता ने थाने में शिकायत की तो कोतवाल ने उसे वापस लौटा दिया। बताया जाता है कि दरोगा के बेटे ने लड़की का वीडियो वायरल करने की धमकी दी थी जिस पर छात्रा ने खुदकुशी की कोशिश कर डाली। क्षेत्राधिकारी गाजीपुर दीपक कुमार सिंह ने बताया कि इंदिरानगर क्षेत्र में रहने वाले एलआईयू के एक कर्मचारी ने गुडंबा के कल्याणपुर निवासी राजकुमार यादव पर अपनी बेटी से छेड़छाड़ व अन्य संगीन आरोप लगाते हुए प्राथमिकी दर्ज कराई है।
आरोप है कि बेटी साल भर पहले एक पॉलीटेक्निक कॉलेज में पढ़ाई करती थी। इस दौरान गुडंबा के कल्याणपुर में रहने वाले राज कुमार यादव ने उसका पीछा शुरू किया और दोस्ती बना ली। इसकी भनक लगने पर छात्रा के पिता ने राज कुमार को डांटने के साथ हिदायत दी। जिस पर उसने पीछा करना छोड़ दिया। इस बीच छात्रा ने कपूरथला स्थित एक कोचिंग में दाखिला लिया। करीब महीना भर से राज कुमार ने फिर से उससे बातचीत शुरू की। इस बार उसने अपने साथ छात्रा की वीडियो क्लिप बनाई और फिर कॉल करके उस पर साथ चलने का दबाव बनाने लगा।छात्रा के पिता के मुताबिक, राज कुमार ने बुधवार को कोचिंग जा रही छात्रा को टेम्पो से उतार कर कार में जबरन बैठाने की कोशिश की। विरोध पर गालीगलौज के साथ हाथापाई करने लगा। छात्रा के एक रिश्तेदार की पिटाई करके बाइक की चाभी निकाल ली। बात बर्दाश्त से बाहर होने पर छात्रा का पिता प्राथमिकी दर्ज कराने इंदिरानगर थाने पहुंचा।
उसका कहना है कि प्रभारी निरीक्षक ने र्खुरमनगर पुलिस चैकी जाने की बात कही। वहीं, चैकी प्रभारी ने दरोगा के बेटे राज कुमार से समझौते का दबाव बनाने के साथ तहरीर बदलने की भी सलाह दी। कोई नतीजा न निकलते देख पिता अपने घर लौट गया।छात्रा के पिता का कहना है कि शिकायत पर कोई कार्रवाई न होने से राज कुमार का हौसला बढ़ता गया। उसने बृहस्पतिवार को छात्रा को मैसेज भेजने के साथ कई बार कॉल की। तेजाब फेंककर जिंदगी तबाह करने व वीडियो वायरल करने की धमकी दी। इस से आहत छात्रा ने दूसरी मंजिल से कूदकर खुदकुशी का प्रयास किया।एक निजी अस्पताल में छात्रा का इलाज करा रहे पिता ने बताया कि दूसरी मंजिल से कूदी छात्रा केबिल के तारों से उलझते हुए सड़क पर गिरी थी। इसके चलते उसकी जान बच गई। हालांकि दोनों पैरों की हड्डियां टूटने से वह गंभीर रूप से घायल हो गई।क्षेत्राधिकारी गाजीपुर दीपक कुमार सिंह का कहना है कि मामले में संगीन धाराओं में प्राथमिकी दर्ज की गई है। नामजद आरोपी को जल्द पकड़ने के आदेश दिए गए हैं। छात्रा के पिता द्वारा पुलिस पर लगाए आरोपों की जांच करके कार्रवाई की जाएगी।


अधिक राज्य की खबरें

पॉलिटेक्निक प्रवेश परीक्षा : गणित व फिजिक्स के प्रश्नों ने अभ्यर्थियों को उलझाया..

प्रदेश के राजकीय, सहायता प्राप्त व प्राइवेट पॉलिटेक्निक में दाखिले के लिए छात्र-छात्राओं ने परीक्षा में हिस्सा ... ...