विपक्ष प्रधानमंत्री पद पर दावेदारी चाहे जो करे, PM मोदी का कोई विकल्प नहीं हैः केशव प्रसाद
सपा-बसपा और कांग्रेस ने जातिवाद और तुष्टिकरण करने की बहुत कोशिश की.


प्रयागराज: उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने लोकसभा चुनाव के छठे चरण के चुनाव प्रचार के अंतिम दिन कहा कि प्रधानमंत्री पद के लिए दावेदारी चाहे जो भी करे, लेकिन देश के किसी भी मतदाता से पूछो कि पीएम मोदी का विकल्प कौन है? तो वह कहेगा कि मोदी जी का विकल्प स्वयं मोदी जी हैं. 

हार सामने देख बयानबाजी कर रहा है विपक्ष
संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए उपमुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री के काम से जनता के बीच प्रभाव भाजपा के पक्ष में है. सपा-बसपा और कांग्रेस ने जातिवाद और तुष्टिकरण करने की बहुत कोशिश की. सपा-बसपा के जाति समीकरण और तुष्टिकरण की घटिया राजनीति को पीएम मोदी के समीकरण ने पछाड़ दिया है और चारों तरफ मोदी-मोदी ही हैं. उपमुख्यमंत्री ने कहा कि जनता का समर्थन नहीं मिलने और हार की आहट मिलने से बौखलाहट में कांग्रेस और सपा-बसपा के नेता अनर्गल बयानबाजी कर रहे हैं.

प्रियंका का नहीं दिखेगा असर
2014 में केंद्र में भाजपा की सरकार बनने के बावजूद प्रदेश में सपा की सरकार रहने से विकास के कार्य बाधित रहे, लेकिन 2017 में प्रदेश में भाजपा की सरकार बनने के बाद से विकास के काम में तेजी आई. कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सबसे कमजोर प्रधानमंत्री बताए जाने पर मौर्य ने कहा कि वह (प्रियंका) आई थीं, अपने भाई राहुल गांधी को जिताने, लेकिन मैं दावे से कहता हूं कि राहुल अमेठी से चुनाव हार रहे हैं. यह प्रियंका जी की बौखलाहट और घबराहट है, जिसकी वजह से वह इस तरह का बयान दे रही हैं. उप-मुख्यमंत्री ने कहा कि जिस पार्टी की वह (प्रियंका) महासचिव हैं, आधी पार्टी इस समय जमानत पर है. जमानत एक निश्चित समय के लिए रहती है, जिसने भी देश को, जनता को, गरीबों को लूटा है, उसे इसकी सजा जरूर मिलेगी.

अखिलेश पर साधा निशाना
सपा प्रमुख अखिलेश यादव पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि जिनको (मायावती) प्रधानमंत्री पद का दिलासा देकर उनके वोटों को अर्जित करने की सपा अध्यक्ष कोशिश कर रहे हैं, उनके बारे में मैं इतना ही कहता हूं कि जो अपने पिता और चाचा के नहीं हुए, 23 तारीख को यह संदेश आ जाएगा कि वह नकली बुआ जी के भी नहीं हुए.

चुनाव के बाद होंगे ये 3 काम
मौर्य ने कहा कि प्रयागराज में तीन महत्वपूर्ण कार्य लंबित हैं. पहला फाफामऊ में छह लेन के पुल का कार्य, प्रयागराज का इनर रिंग रोड और प्रयागराज से गंगा एक्सप्रेस-वे. चुनाव बाद इन कार्यों को शुरू किया जाएगा. 


अधिक राज्य की खबरें