अंतिम चरण में उप्र की 13 सीटों पर मतदान शुरु, मोदी समेत कई दिग्गज मैदान में
लोकसभा चुनाव के सातवें व अंतिम चरण में उत्तर प्रदेश की 13 सीटों पर कड़ी सुरक्षा के बीच रविवार सुबह सात बजे मतदान प्रारम्भ हो गया।


लखनऊ, (हि.स.)।  लोकसभा चुनाव के सातवें व अंतिम चरण में उत्तर प्रदेश की 13 सीटों पर कड़ी सुरक्षा के बीच रविवार सुबह सात बजे मतदान प्रारम्भ हो गया। मतदान शाम छह बजे तक जारी रहेगा, लेकिन राबर्ट्सगंज के तीन विधानसभा क्षेत्रों में अपराह्न चार बजे तक ही वोट पड़ेंगे। शांतिपूर्ण मतदान के लिए सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किये गये हैं। आखिरी दौर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत कई दिग्गजों के भाग्य आज ईवीएम में कैद हो जाएंगे।

सातवें चरण में प्रदेश की महराजगंज, गोरखपुर, कुशीनगर, देवरिया, बांसगांव, घोसी, सलेमपुर, बलिया, गाजीपुर, चन्दौली, वाराणसी, मिर्जापुर तथा राबर्ट्सगंज सीटों के लिए आज मतदान हो रहा है। इस चरण में 2.36 करोड़ मतदाता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा, केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री अनुप्रिया पटेल, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष डा0 महेंद्रनाथ पांडेय और पूर्व केंद्रीय मंत्री आरपीएन सिंह समेत 167 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला करेंगे। 
मतदान से पहले मतदान केंद्रों पर विभिन्न दलों के बूथ एजेंटों की मौजूदगी में पीठासीन अधिकारियों ने ईवीएम पर मॉक पोल का प्रदर्शन किया। इसके बाद ठीक सात बजे मतदान प्रारम्भ हो गया। पोलिंग बूथों के बाहर लोग सात बजे से पहले ही जमा होने लगे थे।
 
सुबह सात बजे प्रारम्भ हुआ मतदान शाम छह बजे तक जारी रहेगा, लेकिन राबटर््सगंज लोकसभा सीट के तीन विधानसभा क्षेत्रों चकिया, राबटर््सगंज और दुद्धी में मतदान की अवधि दो घंटे तक घटा दी गई है। न क्षेत्रों में अपराह्न चार बजे तक ही वोट पड़ेंगे। निर्वाचन आयोग ने यह निर्णय नक्सली क्षेत्र को देखते हुए सुरक्षा के मद्देनजर लिया है। 

कुल 167 उम्मीदवार
सातवें चरण में प्रदेश की 13 सीटों के लिए कुल 167 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं। इनमें घोसी संसदीय सीट पर 15 उम्मीदवार, गोरखपुर में 10, महराजगंज में 14, गाजीपुर में 14, वाराणसी में 26, मिर्जापुर में 09, बलिया में 10, कुशीनगर में 14, देवरिया में 11, चंदौली में 13, बांसगांव में चार, राबर्ट्सगंज में 12 तथा सलेमपुर में 15 उम्मीदवार हैं। अंतिम चरण में प्रमुख रूप से भाजपा के 11 उम्मीदवार, कांग्रेस-10, बसपा के पांच, सपा के आठ, सीपीआई के चार तथा शेष अन्य एवं निर्दलीय उम्मीदवार हैं। इस चरण में महिला उम्मीदवारों की संख्या 13 है। 
 
2.36 करोड़ मतदाता
सातवें चरण की 13 लोक सभा निर्वाचन क्षेत्रों में 2,36,38,797 मतदाता हैं, जिनमें 1.28 करोड़ पुरूष, 1.08 करोड़ महिला तथा 1,426 तृतीय लिंग के मतदाता हैं। घोसी लोकसभा क्षेत्र में सबसे अधिक 19,85,203 मतदाता हैं, जबकि सबसे कम 16,60,069 मतदाता सलेमपुर लोकसभा क्षेत्र में हैं। 

ये हैं तैयारियां 
सातवें चरण के संसदीय क्षेत्रों में कुल 13,979 मतदान केन्द्र तथा 25,874 मतदेय स्थल हैं, जिनमें क्रिटिकल मतदेय स्थलों की संख्या 4,395 है। उन्होंने बताया कि 3,043 मतदेय स्थलों पर डिजिटल और 820 मतदेय स्थलों पर वीडियो कैमरे लगाये गये हैं। इसके अलावा 2,338 मतदेय स्थलों पर वेब कास्टिंग की व्यवस्था की गयी है। 
प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी एल0 वेंकटेश्वर लू के अनुसार इस चरण में मतदान कार्य में प्रयोग की जाने वाली ईवीएम एवं वीवी पैट की संख्या (आरक्षित सहित)-बैलट यूनिट 31,187, कन्ट्रोल यूनिट 29,802 तथा वीवी पैट 31,831 है। बताया कि इस बार शत प्रतिशत मतदेय स्थलों पर वीवी पैट का प्रयोग किया जाएगा। 

इसके अलावा शांतिपूर्ण मतदान के लिए 1,747 सेक्टर मजिस्ट्रेट, 229 जोनल मजिस्ट्रेट और 264 स्टैटिक मजिस्ट्रेट तैनात किए गए हैं। इसी तरह 13 सामान्य प्रेक्षक, सात पुलिस प्रेक्षक, 13 व्यय प्रेक्षक और 71  सहायक व्यय प्रेक्षक लगाए गए हैं। मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि सातवें चरण के लिए कुल 1,12,439 मतदान कर्मियों को लगाया गया है। उन्होंने बताया कि स्वतंत्र, निष्पक्ष एवं शान्तिपूर्ण मतदान सम्पन्न कराने के लिए पर्याप्त संख्या में अर्द्धसैनिक बल एवं पीएसी की तैनाती की गयी है।  

राजधानी स्थित प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी कार्यालय के कंट्रोल रुम से भी मतदान प्रक्रिया की लगातार निगरानी की व्यवस्था की गई है। वहां पर प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी एल0 वेंकटेश्वर लू समेत अन्य अधिकारी आज दिन भर मौजूद रहेंगे। 
 
मतदान वाले जिलों में रहेगा अवकाश
मुख्य निर्वाचन अधिकारी के अनुसार आज मतदान वाले जिलांे में निगोशिएबल इन्स्ट्रमेन्ट एक्ट के तहत सार्वजनिक अवकाश के अलावा कारखाने, सभी वाणिज्यिक अधिष्ठान एवं दुकानें बंद रहेंगी। 

प्रधानमंत्री मोदी समेत कई दिग्गजों के भाग्य का होगा फैसला
अंतिम चरण के मतदान में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत कई बड़े सियासी दिग्गजों के भाग्य का फैसला होगा। लोकसभा में अपनी दूसरी पारी के लिए मोदी इस बार फिर से वाराणसी सीट से चुनाव मैदान में हैं। वहीं केंद्रीय रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा गाजीपुर से और केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री अनुप्रिया पटेल मिर्जापुर से दोबारा भाग्य आजमा रही हैं। इसके अलावा भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष डा0 महेंद्रनाथ पांडेय इस बार फिर चंदौली लोकसभा सीट से मैदान में हैं। इस चरण में प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सीट रही गोरखपुर पर भी मतदान है। गोरखपुर के अलावा अगल बगल की सीटों के भाजपा उम्मीदवार भी योगी के ही मनमाफिक हैं। ऐसे में चुनाव के आखिरी दौर में योगी की भी प्रतिष्ठा दांव पर है। 

मुद्दों पर हावी जातिवाद
उत्तर प्रदेश में अंतिम चरण की सभी 13 सीटें पूर्वांचल की हैं। इन सीटों पर मुद्दे कम जातिवाद ज्यादा हावी रहता है। लेकिन, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इन सभी सीटों के लिए जिस तरह से ताबड़तोड़ रैलियां कर राष्ट्रवाद का अलख जगाया, उससे जाति और धर्म की सीमायें कमजोर होती दिख रही हैं। वर्ष 2014 के चुनाव में इन सभी 13 सीटों पर भाजपा व उसके सहयोगी दल का कब्जा था। 12 सीटें भाजपा को मिली थीं और मीरजापुर सीट से उसकी सहयोगी अपना दल की अनुप्रिया पटेल जीती थीं। उस चुनाव में पूर्वांचल की इन सीटों से सपा, बसपा और कांग्रेस का सफाया हो गया था। इस बार सपा और बसपा गठबंधन कर चुनाव मैदान में उतरी है। पिछले चुनाव में इस चरण की सीटों पर मतदान का प्रतिशत 54.96 रहा।


अधिक राज्य की खबरें