योगी आदित्यनाथ ने अखिलेश, मायावती से दोगुनी सभाएं कर बनाया रिकार्ड
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान सपा-बसपा गठबंधन के नेताओं से दो गुनी सभाएं करके रिकार्ड बनाया है


लखनऊ:  उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान सपा-बसपा गठबंधन के नेताओं से दो गुनी सभाएं करके रिकार्ड बनाया है। भाजपा केन्द्रीय नेतृत्व ने योगी आदित्यनाथ को स्टार प्रचारकों की सूची में रखा था। इस दृष्टि से योगी आदित्यनाथ की मांग पूरे देश में थी। योगी आदित्यनाथ देश के कई राज्यों में प्रचार करने गये। योगी ने सर्वाधिक 06 जनसभाएं पश्चिम बंगाल में  की। अकेले उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ ने 136 जनसभाओं को संबोधित किया। अखिलेश और मायावती ने मिलकर मात्र 69 जनसभाएं की। 

उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और बसपा की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने 21 संयुक्त जनसभाएं की। अखिलेश यादव ने 48 एकल जनसभाओं को संबोधित किया। इस अभियान में सांसद डिम्पल यादव की भी प्रमुख भूमिका रही। सपा में अखिलेश के बाद सबसे ज्यादा मांग डिम्पल यादव की थी। 
डिम्पल यादव ने कन्नौज, लखनऊ और इलाहाबाद में तीन रोड शो किये और मैनपुरी सांसद तेज प्रताप सिंह यादव ने दो चुनावी सभाओं में भागीदारी की।

सपा के प्रवक्ता राजेन्द्र चौधरी ने प्रत्येक लोकसभा क्षेत्र में जाने का प्रयास किया। भाजपा की केंद्र और राज्य सरकारोें की दोषपूर्ण नीतियों से जनता आक्रोशित है। जीएसटी और नोटबंदी ने घरेलू अर्थव्यवस्था को चौपट कर दिया। बुनियादी समस्याओं को दूर करने में भाजपा सरकार की उदासीनता से जनता परेशान है। उन्होंने कहा कि दलितों, पिछड़ो, अल्पसंख्यकों, महिलाओं सहित समाज के कमजोर वर्गों पर हो रहे अत्याचारों से त्रस्त जनता का पूरा सहयोग गठबन्धन को चुनाव में मिला है। सपा प्रवक्ता ने कहा कि जनता अब अपनी जिंदगी संवारना चाहती है, उसे जुमलों की दुनिया में भ्रमित होना पसंद नहीं। भाजपा को सत्ता से बेदखल करके ही दम लेगी।


अधिक राज्य की खबरें