इंस्पेक्टर बना सांसद, DSP को देखते ही किया सैल्यूट
लोकसभा चुनाव 2019 में आंध्रप्रदेश के हिंदूपुर लोकसभा सीट से वाईएसआर कांग्रेस ने इलाके के पुलिस इंस्पेक्टर गोरंता माधव को टिकट दिया था.


हैदराबाद: लोकतंत्र की सबसे अच्छी बात यह है कि यहां जनता जिस चाहे उसे गद्दी पर बिठा सकती है. यहां सारी ताकत जनता के पास होती है. वहीं दूसरी ओर भारत की वास्तविक वर्ण व्यवस्था में ज्ञान के आधार पर वर्ण का निर्धारण तय होने की बात कही गई, यानी अगर किसी ब्राह्मण का बेटा भी अज्ञानी है तो उसे वर्ण व्यवस्था के सबसे निचले क्रम में जाना होगा. इन दोनों बातों का एक उदाहरण आंध्र प्रदेश में देखने को मिला है. यहां एक सांसद जनता के समर्थन से सांसद बने हैं. सांसद बनने के बाद जब उनकी मुलाकात उसी जिले के डीएसपी से हुई तो उन्होंने बिना समय गंवाए उन्हें सलामी ठोक दी. सांसद बनने से पहले इस पुलिस इंस्पेक्टर के बॉस यही डीएसपी थे.

लोकसभा चुनाव 2019 में आंध्रप्रदेश के हिंदूपुर लोकसभा सीट से वाईएसआर कांग्रेस ने इलाके के पुलिस इंस्पेक्टर गोरंता माधव को टिकट दिया था. गोरंता चुनाव जीत गए. अब गोरंता इलाके के इंस्पेक्टर नहीं सांसद हैं, वह संसद में अपने इलाके की समस्या को उठाएंगे. सांसद बनने क बाद गोरंता किसी काम से सरकारी दफ्तर पहुंचे थे. यहां इत्तेफाक से उनकी मुलाकात जिले में तैनात डीएसपी महबूब बासा से हुई.

डीएसपी को देखते ही गोरंता अलर्ट हो गए और झट से डीएसपी महबूब बासा को सैल्यूट किया. जवाब में डीएसपी ने भी उन्हें सैल्यूट किया. यह तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है. फिलहाल महबूब बासा सीआईडी विभाग में डीएसपी हैं. वहीं गोरंता माधव अनंतपुर डिस्ट्रिक्ट में पूर्व सर्कल इंस्पेक्टर रहे.

द वीक की खबर के मुताबिक यह तस्वीर मतगणना के दिन की है. मतगणना केंद्र पर ही गोरंता माधव की डीएसपी महबूब बासा से मुलाकात हुई थी. यहीं दोनों ने एक-दूसरे को सैल्यूट किया था. गोरंता ने बताया कि सांसद बनना अलग बात है, लेकिन डीएसपी साहब पुराने बॉस हैं, हम दोनों एक-दूसरे का सम्मान करते हैं और करते रहेंगे.

गोरंता ने बताया कि अनंतपुर से टीडीपी के पूर्व सांसद जेसी डिवाकर रेड्डी ने पुलिस विभाग के लिए बेहद आपत्तिजनक बयान दिया था. इसी बात से नाराज होकर गोरंता ने राजनीति में आने का फैसला लिया है.
साभार : ZeeNews


अधिक देश की खबरें