प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी सहित 58 मंत्रियों ने ली पद और गोपनीयता की शपथ
इसमें 46 मंत्रियों ने हिन्दी में तो 12 मंत्रियों ने अंग्रेजी में शपथ ग्रहण किया। कुछ शपथ लेने वाले मंत्रियों में 19 नये चेहरे रहे, जिसमें छह नये चेहरे कैबिनेट मंत्री बने।


नई दिल्ली (हि.स.)। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने गुरुवार शाम को राष्ट्रपति भवन के प्रांगण में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और उनके मंत्री परिषद के सदस्यों को पद एवं गोपनियता की शपथ दिलाई। लगभग दो घंटे चले शपथ ग्रहण समारोह के दौरान 25 केन्द्रीय मंत्री, नौ राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) और 24 ने राज्यमंत्री के तौर पर शपथ ली। इसमें 46 मंत्रियों ने हिन्दी में तो 12 मंत्रियों ने अंग्रेजी में शपथ ग्रहण किया। कुछ शपथ लेने वाले मंत्रियों में 19 नये चेहरे रहे, जिसमें छह नये चेहरे कैबिनेट मंत्री बने। 
राष्ट्रपति भवन के प्रांगण में गुरुवार शाम को शुरू हुए शपथ ग्रहण समारोह में सबसे पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सात बजकर दो मिनट पर शपथ ली। 

बाद में राजनाथ सिंह, अमित शाह, नितिन गडकरी, सदानंद गौड़ा, निर्मला सीतारमण, राम विलास पासवान, नरेन्द्र सिंह तोमर, रविशंकर प्रसाद, हरसिमरत कौर बादल, थावर चंद गहलोत, एस. जयशंकर, रमेश पोखरियाल निशंक, अर्जुन मुंडा, स्मृति ईरानी, डॉ हर्षवर्धन, प्रकाश जावड़ेकर, पीयूष गोयल, धर्मेन्द्र प्रधान, मुख्तार अब्बास नकवी, प्रह्लाद जोशी, महेन्द्र नाथ पांडे, अरविंद सावंत, गिरिराज सिंह और गजेन्द्र सिंह शेखावत ने केन्द्रीय मंत्री के तौर पर शपथ ली। वहीं राज्यमंत्री(स्वतंत्र प्रभार) के रूप में संतोष गंगवार, राव इन्द्रजीत सिंह, श्रीपद येशो नाइक, जितेन्द्र सिंह, किरण रिजिजू, प्रह्लाद पटेल, आर.के. सिंह, हरदीप सिंह पुरी, मनसुख मांडविया ने तो राज्यमंत्री के रूप में फग्गन सिंह कुलस्ते, अश्वनी चौबे, अर्जुन मेघवाल, वीके सिंह, कृष्णपाल गुर्जर, रावसाहेब दानवे, जी किशन रेड्डी, पुरुषोत्तम रुपाला, रामदास अठावले, साध्वी निरंजन ज्योति, बाबुल सुप्रियो, संजीय बाल्यान, संजय धोत्रे श्यामराव, अनुराग ठाकुर, सुरेश अंगाजि, नित्यानंद राय, रतनलाल कटारिया, वी. मुरलीधरन, रेणुका सिंह, सोम प्रकाश, रामेश्वर तेली, प्रताप चंद्र सारंगी, कैलाश चौधरी और देबोश्री चौधरी ने पद एवं गोपनीयता की शपथ ली।

गुरुवार को राष्ट्रपति भवन में अब तक के सबसे बड़े हुए आयोजन में आठ विदेशी राष्ट्राध्यक्षों सहित लगभग आठ हजार गणमान्य व्यक्तियों की उपस्थिति से समारोह में चार चांद लग गया था। इससे पहले प्रधानमंत्री मोदी के वर्ष 2014 के शपथ ग्रहण समारोह में दक्षिण एशिया क्षेत्रीय सहयोग संगठन (सार्क) के नेताओं के साथ पांच हजार मेहमानों ने समारोह में भाग लिया था। 

इस बार के समारोह में उद्योग, फिल्म एवं खेल जगत की जानी-मानी हस्तियों सहित बिमस्टेक देशों के नेताओं के साथ ही किर्गिजस्तान के राष्ट्रपति सूरोनबे जीनबेकोव और मॉरीशस के प्रधानमंत्री प्रविन्द्र जगन्ननाथ ने भाग लिया। हालांकि विदेशी नेताओं के आने का सिलसिला बुधवार शाम से ही शुरू हो गया था और वह गुरुवार दोपहर तक चला।
समारोह में बांग्लादेश के राष्ट्रपति मोहम्मद अब्दुल हामिल, मॉरीशस के प्रधानमंत्री प्रविंद्र जगरनाथ, भूटान के प्रधानमंत्री लोटे शेरिंग, थाईलैंड के विशेष दूत गीरीहसाडा बूनराच, वर्मा के राष्ट्रपति यू विंग मिंट, श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रीपाल श्रीसेना, नेपाल के प्रधानमंत्री के.पी. शर्मा ओली ने भाग लिया।

इसके अलावा मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई सहित प्रशासन से जुड़े वरिष्ठ अधिकारियों ने भाग लिया। इस शपथ ग्रहण में पूर्व राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी. उनकी मां और संप्रग अध्यक्षा सोनिया गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह एवं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने समारोह में भाग लिया। इसके अलावा पुडुचेरी के मुख्यमंत्री वी. नारायणस्वामी, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाईएस जगदीश मोहन रेड्डी ने भाग लिया। 

समारोह में फिल्मी सितारे भी हिस्सा बनें, जिसमें सुपरस्टार रजनीकांत, फिल्म निर्माता करण जोहर, मधुर भंडारकर, फिल्म अभिनेत्री कंगना रनौत ने प्रमुख थीं। वहीं राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह कृष्ण गोपाल और सुरेश सोनी तथा संघ की अखिल भारतीय कार्यकारणी के सदस्य इन्द्रेश कुमार भी शामिल रहे। उद्योगपतियों में गौतम अडानी, मुकेश अंबानी आदि भी समारोह में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के शपथ ग्रहण समारोह के साक्षी बने। (हि.स.)


अधिक देश की खबरें