उप्र. की कानून-व्यवस्था को लेकर योगी के तेवर सख्त
मुख्यमंत्री के इस तेवर को देखकर अधिकारियों में हड़कंप मचा हुआ है।


लखनऊ। प्रदेश की कानून व्यवस्था को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के  तेवर सख्त हैं। लापरवाह अधिकारियों की नकेल कसने के लिए सीएम बुधवार को यूपी के सभी जिलाधिकारियों, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षकों और पुलिस अधीक्षकों के साथ राजधानी के लोकभवन के आडिटोरियम में समीक्षा बैठक कर रहे हैं।   

मुख्यमंत्री योगी लगातार तीन दिन तक जनपद स्तर के अधिकारियों के साथ राजधानी में कानून व्यवस्था, विकास कार्य, स्वास्थ्य सेवा और शिक्षा व्यवस्था का जायजा लेंगे। इसके बाद 16 जून से पूरे एक माह तक वह स्वयं जिलों के भ्रमण पर निकलेंगे। इस दौरान वह औचक निरीक्षण भी करेंगे। मुख्यमंत्री के इस तेवर को देखकर अधिकारियों में हड़कंप मचा हुआ है।



प्रदेश के अपर मुख्य सचिव सूचना अवनीश अवस्थी ने बुधवार को बताया कि मुख्यमंत्री योगी ने लोक भवन में पूर्वाह्न 11 बजे से बैठक शुरू की है और शाम पांच बजे तक लगातार तीन चरणों में बैठक करेंगे। सबसे पहले पूर्वाह्न 11 बजे से अपराह्न 1.30 बजे तक जिलाधिकारियों और जिला पुलिस प्रमुखों के साथ प्रदेश की कानून व्यवस्था की समीक्षा की है। इस बैठक में प्रमुख सचिव गृह और पुलिस महानिदेशक भी रहे। इसके बाद अपराह्न दो बजे से चार बजे तक विकास कार्यों की समीक्षा होगी। इसमें भी प्रदेश के सभी जिलाधिकारी उपस्थित रहेंगे। मुख्यमंत्री अपराह्न चार से पांच बजे तक राजस्व विभाग की समीक्षा करेंगे। दूसरे दिन यानि 13 जून को राज्य के सभी मुख्यचिकित्साधिकारियों के साथ बैठक कर मुख्यमंत्री योगी स्वास्थ्य सेवाओं की समीक्षा करेंगे। शिक्षा व्यवस्था पर चर्चा के लिये 14 जून को प्रदेश के सभी शिक्षा अधिकारियों को बुलाया गया है।

गौरतलब है कि लोकसभा चुनाव के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अपनी पुरानी कार्यशैली में लौट आये हैं। पिछले करीब 12 दिनों से लगातार वह विभिन्न विभागों की परियोजनाओं का प्रस्तुतिकरण देखकर समीक्षा भी कर रहे हैं। सोमवार को उन्होंने कानून व्यवस्था को लेकर सभी आलाधिकारियों के साथ बैठक की थी। आगामी 16 जून से एक माह के लिए वह मंडलीय समीक्षा पर निकलेंगे। अपने भ्रमण से पहले उन्होंने जिलों में नामित नोडल अधिकारियों को 11 से 15 जून तक अपने लिए तय जिलों का भ्रमण कर लेने का निर्देश दिया है।


अधिक राज्य की खबरें