रिटायरमेंट के बाद अब भविष्‍य की नहीं रहेगी चिंता, इन चार निवेश विकल्पों से आता रहेगा पैसा 
क्यूंकि खर्च तभी होगा जब आमदनी आने का कोई जरिया होगा।


नई दिल्ली : नौकरी से रिटायरमेंट के बाद हर इंसान को पैसे के लिए सोचना पड़ता है और जरूररत पड़ती है क्यूंकि खर्च तभी होगा जब आमदनी आने का कोई जरिया होगा। हर इंसान चाहता है कि पैसा आता रहे और जिंदगी आराम से कटती रहे। आपको बता दें कि अगर आप भी ऐसा सोचते हैं तो बचत और निवेश के कई विकल्‍प हैं जिनकी मदद से आप रिटायरमेंट प्‍लानिंग कर सकते हैं।

नेशनल पेंशन सिस्‍टम (NPS)
आपको बता दें कि नेशनल पेंशन सिस्‍टम में निवेश से आप आयकर अधिनियम की धारा 80सी के तहत 1.5 लाख रुपये तक की कटौती का लाभ पा सकते हैं। इसमें 6 अलग-अलग फंड में निवेश कर सकते हैं। इसमें सालाना न्यूनतम निवेश 6,000 रुपये कर सकते हैं। इसमें निवेश की कोई ऊपरी सीमा नहीं है।

कर्मचारी भविष्य-निधि संस्था (EPF)
कर्मचारी भविष्य-निधि (EPF) में आप रिटायरमेंट के लिए एक अच्‍छी बचत योजना है। बता दें कि वेतन में से 12 फीसद ईपीएफ में जमा होता है। इसकी ब्याज दर 8.65 फीसद है। हालांकि, वेतन पाने वाले ही इसका फायदा उठा सकते हैं।

सामान्य भविष्य निधि (PPF)
धन की बचत के लिए PPF बेहतरीन विकल्प है। इसमें पैसा जमा करने पर ब्याज मिलता रहेगा। अगर आप डेट में निवेश करना चाहते हैं तो पीपीएफ एक बेहतरीन विकल्‍प है। बता दें कि इसका ब्याज टैक्स फ्री होता है। आप बैंक ऑर पोस्ट ऑफिस से पीपीएफ खोल सकते हैं।

रियल एस्टेट
रिटायरमेंट के लिए निवेश योजना में रियल एस्टेट अच्छा विकल्प है। रिटायरमेंट के बाद प्रॉपर्टी किराए पर है तो इससे एक नियमित आय मिलती रहेगी। इसमें निवेश रिटायरमेंट के पहले और रिटायरमेंट के बाद की जा सकती है।  


अधिक बिज़नेस की खबरें