पीएम मोदी के डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन के लक्ष्य को बड़ा झटका
फाइल फोटो


भारत की अर्थव्यवस्था गिरती जा रही है, इसी बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार को भी बड़ा झटका लगा है। रिपोर्ट के मुताबिक मौजूदा वर्ष में कॉर्पोरेट और इनकम टैक्स कलेक्शन में भारी गिरावट आई है। इस हिसाब से पिछले 20 वर्षों में पहली बार भारत डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन सबसे खराब स्थिति में पहुंच गया है। ऐसा कहा जा रहा है कि कि सरकार को सालाना मिलने वाला रेवेन्यू का 80 फीसदी हिस्सा डायरेक्ट टैक्स से आता है ऐसे में इसमें कमी आना सरकार के लिए बड़ा झटका है।


मोदी सरकार को बड़ा झटका

बता दें कि पीएम मोदी ने चालू वित्त वर्ष के अंत तक यानी 31 मार्च तक भारत का डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन का लक्ष्य 13.5 ट्रिलियन रुपये (189 बिलियन डॉलर) रखा था। 


गौरतलब है कि पीएम मोदी का यह लक्ष्य पिछले वर्ष के डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन से भी 17 प्रतिशत ज्यादा था। 

सूत्रों के मुताबिक डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन में 20 साल में पहली बार आई खराब स्थिति की वजह आर्थिक सुस्ती और कॉर्पोरेट टैक्स में कटौती को भी बताया है।


जानकारों की माने तो पिछले कुछ वर्षों में बाजार में डिमांड की कमी देखी जा रही है। इसकी वजह कंपनियों के निवेश में कटौती और बढ़ती बेरोजगारी को बताया गया है।

टैक्स डिपार्टमेंट के मुताबिक जनवरी तक 7.3 ट्रिलियन रुपये टैक्स के तौर पर कलेक्ट किए गए हैं जो पिछले वर्ष जुटाए गए टैक्स से काफी कम है।


(देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं) 


अधिक बिज़नेस की खबरें