सपा ने अमेठी-रायबरेली की 10 में से 8 सीटें कांग्रेस को दीं
सपा ने गौरीगंज से राकेश सिंह, सलोन से आशा किशोर और ऊंचाहार से मनोज पाण्डे को टिकट दिया है।


लखनऊ : विधानसभा चुनाव को लेकर समाजवादी पार्टी (सपा) और कांग्रेस में रायबरेली और अमेठी की सीटों को लेकर मामला सुलझता नजर आ रहा है। बताया जा रहा है कि दोनों जनपदों की कुल दस विधानसभाओं में 08 कांग्रेस के हिस्से में आयी हैं, जबकि दो सीटों पर सपा प्रत्याशी चुनाव लड़ेंगे। हालांकि दोनों ही दलों की ओर से इस बात की पुष्टि नहीं की गयी है। अमेठी में चार विधानसभाएं अमेठी, तिलोई, गौरीगंज और जगदीशपुर है, जबकि रायबरेली में रायबरेली सदर, सरेनी, हरचंदपुर, बछरावां, सलौन और ऊंचाहार है। इनमें कांग्रेस ने गुरूवार को दोनां जिलों की 05 सीटों पर जरूर प्रत्याशी घोषित भी कर दिए। 

पार्टी ने अमेठी जनपद की तिलोई और जगदीशपुर (सुरक्षित), रायबरेली जनपद की सदर, सरेनी और हरचन्दपुर से प्रत्याशी उतारे हैं। अमेठी विधानसभा से कांग्रेस ने अभी भी प्रत्याशी घोषित नहीं किया है। इससे परिवहन मंत्री गायत्री प्रजापति के अमेठी से चुनाव लड़ने का रास्ता साफ होता नजर आ रहा है। गायत्री अभी भी अमेठी सीट से सपा विधायक हैं। वह शिवपाल खेमे के थे, लेकिन आखिरकार राष्ट्रीय अध्यक्ष व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को मनाने में सफल रहे। हाल ही में सुलतानपुर में आयोजित चुनावी सभा में अखिलेश ने गायत्री को जिताने की अपील भी की थी और कहा कि था वह आसपास की सीटें भी सपा को जिताने में अहम भूमिका निभायेंगे। 

वहीं सपा ने गौरीगंज से राकेश सिंह, सलोन से आशा किशोर और ऊंचाहार से मनोज पाण्डे को टिकट दिया है। पार्टी ने सरेनी से देवेन्द्र प्रताप सिंह को उम्मीदवार बनाया था, लेकिन गुरूवार को इस सीट पर कांग्रेस उम्मीदवार की घोषणा से साफ हो गया है कि देवेन्द्र अब सपा से चुनाव नहीं लड़ पायेंगे। इस बीच कांग्रेस के राज्य सभा सांसद एवं उ.प्र. चुनाव प्रचार समिति के अध्यक्ष डॉ. संजय सिंह ने गुरूवार को कहा कि कांग्रेस अमेठी और रायबरेली की सभी दस सीटों पर चुनाव लड़ेगी और अमेठी से अमिता सिंह पार्टी प्रत्याशी होंगी। वहीं अमिता सिंह ने कहा कि अमेठी कांग्रेस का गढ़ रहा है। कोई अपना घर समझौते में नहीं देता है। 

मीडिया अपने कयास के आधार पर सीटों का बंटवारा तय कर रहा है। उन्होंने कहा कि कुछ टीवी चैनल अमेठी से मेरा तो कुछ गायत्री प्रजापति का टिकट कटने का दावा कर रहे हैं। इसी तरह रायबरेली और अमेठी की कुल सीटों में कोई कांग्रेस को 07 तो कोई 08 मिलने का दावा कर रहा है, जबकि कांग्रेस नेतृत्व की ओर से इस सम्बन्ध में कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है। उन्होंने दावा किया कि सपा नेतृत्व अमेठी सीट कांग्रेस को देने पर तैयार हो गया है। इससे पहले गुरूवार को कांग्रेस के रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से उनके आवास पर मुलाकात की, जिसके बाद अमेठी और रायबरेली की सीटों पर पंचा फेस सुलझाने का दावा किया जा रहा है। 


अधिक राज्य की खबरें