राहुल-अखिलेश का साझा रोड शो स्थगित, कार्यकर्ता मायूस
विधानसभा चुनाव में पीएम को उनके गढ़ में घेरने के लिए तैयार कार्यकर्ता राहुल गांधी और सीएम अखिलेश यादव के साझा रोड शो के स्थगित होने से मायूस हैं।


वाराणसी : प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में कांग्रेस और सपा का शक्ति प्रदर्शन का मंसूबा पूरा नहीं हो पाया। विधानसभा चुनाव में पीएम को उनके गढ़ में घेरने के लिए तैयार कार्यकर्ता राहुल गांधी और सीएम अखिलेश यादव के साझा रोड शो के स्थगित होने से मायूस हैं। रोड शो के रूट फाइनल होने के बाद आठ किमी लंबे रोड शो को ऐतिहासिक बनाने के लिए दिन-रात एक कर रहे कांग्रेस प्रदेश प्रभारी और राष्ट्रीय सचिव राणा गोस्वामी के साथ दोनों दलों के स्थानीय नेता कार्यकर्ता लगे हुए थे। 

कांग्रेस नेतृत्व ने गुरुवार की देर शाम ही रोड शो स्थगित होने की सूचना नेताओं को दे दी। सामान्य कार्यकर्ताओ को शुक्रवार सुबह इसकी जानकारी मिली। जिला युवा कांग्रेस के समन्वयक राघवेन्द्र चौबे ने बताया कि संत रविदास जयंती को देखते हुए रोड शो को स्थगित किया गया है। रैदासी भक्तों की शहर में भीड़ के साथ नामांकन जुलूस की भीड़ इसकी मुख्य वजह है। बताया कि नेतृत्व ने गत वर्ष के 15 अक्टूबर को जयगुरूदेव के भक्तों के बीच राजघाट पुल पर मची भगदड़ को ध्यान में रखकर यह फैसला किया गया। 

उन्होंने बताया कि रोडशो अब 17 से 25 फरवरी के बीच संम्भावित है। नेतृत्व को तारीख तय करना है हम कार्यकर्ता रोडशो को ऐतिहासिक बनाने के लिए तैयार हैं। दोनों नेताओं को लेकर यहां लोगों में भी उत्साह देखने को मिल रहा है। बतादें कि रोडशो में मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के आने पर संशय और शहर में संत रविदास के हजारों भक्तों की मौजूदगी को देखते हुए इसे निरस्त किया गया। 

सपा नेताओं का कहना है कि रोडशो स्थगित होने की वजह रविदास जयंती में उमड़ने वाली भीड़ है। साथ ही 11 फरवरी को ही मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की मुरादाबाद, रामपुर व बरेली में सात सभाएं पहले से ही प्रस्तावित हैं। 


अधिक राज्य की खबरें