सांप्रदायिक ताकतों को हटाने के लिए हमने कांग्रेस से हाथ मिलाया है: अखिलेश
सांप्रदायिक ताकतों को हटाने के लिए हमने कांग्रेस से हाथ मिलाया है: अखिलेश


मैनपुरी: सपा अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कांग्रेस के साथ गठबंधन को लेकर उन्हें कठघरे में खड़ा करने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर पलटवार करते हुए आज कहा कि सरकार बनाने के लिए और सांप्रदायिक ताकतों को हटाने के लिए सपा ने कांग्रेस से समझौता किया है और हार का अंदाजा हो जाने की वजह से मोदी गड़े मुर्दे उखाड़ रहे हैं। अखिलेश ने मैनपुरी में सपा प्रत्याशी के समर्थन में आयोजित रैली में कहा ‘‘मोदी जी ने कन्नौज में कहा कि हमने कांग्रेस से दोस्ती करके नासमझी की। हमने यह इसलिए किया ताकि हमारे लोगों के अंदर से सरकार बनाने को लेकर भ्रम और दुविधा निकल जाये। हमने सरकार बनाने के लिए और सांप्रदायिक ताकतों को हटाने के लिये कांग्रेस से समझौता किया है। उन्होंने कहा ‘‘मोदी जी वर्ष 1984 की याद दिला रहे हैं। उन्हें इतनी दूर जाने की क्या जरुरत थी। अगर आपको हमें ही कांग्रेस के प्रति गुस्सा दिलाना था तो आप हमें फिरोजाबाद वाली बात याद दिला देते। वहां उपचुनाव में कांग्रेस के मौजूदा प्रदेश अध्यक्ष (राज बब्बर) ने हमें हराया था। ये इसलिए याद दिला रहे हैं क्योंकि इस बार उत्तर प्रदेश का चुनाव उन्होंने खो दिया है। अब उनके पास और कोई रास्ता नहीं है। मुख्यमंत्री ने कहा ‘‘मोदी कहते हैं कि मुझे अनुभव नहीं है, इसीलिए मैंने कांग्रेस से गठबंधन किया। याद रखना साथियों, साइकिल तभी सीख पाते हो, जब एक बार गिर जाते हो। हम कम से कम साइकिल चलाना तो सीख ही गये हैं। हम साइकिल इतनी तेज चला सकते हैं कि ना हाथी ही आसपास आ सकता है और ना ही कमल वाले आ सकते हैं। मालूम हो कि मोदी ने कल कन्नौज में अपनी जनसभा में कहा था कि मुलायम वर्ष 1984 में जब विधान परिषद में विपक्ष के नेता थे, तब उनके कडे विरोध से तंग आकर कांग्रेस ने चार मार्च 1984 को मुलायम पर गोलियां चलवायी थीं मगर वह बच गये थे। अखिलेश कुर्सी के मोह में अपने बाप पर हमला कराने वाले लोगों की गोद में बैठकर राजनीति कर रहे हैं।


अधिक राज्य की खबरें