काशी को 24 घण्टे बिजली नहीं मिलने पर पीएम मोदी खायें गंगा की कसम: अखिलेश
काशी को 24 घण्टे बिजली नहीं मिलने पर पीएम मोदी खायें गंगा की कसम: अखिलेश


रायबरेली/अमेठी: समाजवादी पार्टी (सपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने अपनी चुनावी सभाओं में कहा कि यह चुनाव सरकार बनाने का चुनाव है। तीसरे चरण का भी वोट पड़ गया है। सबसे आगे सपा और कांग्रेस गठबन्धन चल रहा है। लोग इन्तजार नहीं करना चाहते हैं और चुनाव चिन्ह साइकिल का बटन दबाने को तैयार हैं।
अखिलेश ने कहा कि समाजवादी लोगों ने लगातार काम किया है। जो घोषणापत्र हमने बनाया है, उसकी एक-एक बात जमीन पर उतारकर आपकी मदद करने का काम करेंगे। यह चुनाव हमारा गठबन्धन वाला भी चुनाव है। उन्होंने रायबरेली में ऊंचाहार से पार्टी प्रत्याशी मनोज पाण्डे को जिताने की अपील की और कहा कि हम लोग तो विपरीत हवा में भी साइकिल चला लेते हैं अब तो तीन चरण के बाद हवा आपके पक्ष में हैं। साइकिल की रफ्तार कितनी तेज होगी, सबको पता होगी।
सपा अध्यक्ष ने 102, 108 एम्बुलेन्स का जिक्र किया। उन्होंने डाॅयल 100 को लेकर कहा कि आने वाली सरकार में इसे और बेहतर करने का काम समाजवादी लोग करेंगे। उन्होंने कहा कि कोई चेक कर ले, फोन मिलाकर देख ले कि फोन उठता है या नहीं। फोन उठेगा और कोई गलत भाषा भी इस्तेमाल नहीं करेगा क्योंकि महिलाएं फोन उठाती हैं, वह गलत भाषा का कभी इस्तेमाल नहीं करती हैं।

 सीएम अखिलेश ने कहा कि अगली सरकार में हम राशन की बेहतर व्यवस्था का इंतजाम करेंगे, जिससे गरीबों को पूरा राशन उपलब्ध हो सके। कोटेदारों के लिए अलग व्यवस्था करनी पड़े, तो करेंगे। इसके साथ ही एक भी गरीब परिवार की महिला सदस्य समाजवादी पेन्शन योजना से नहीं छूटेगी। आने वाले समय में सभी को एक हजार रूपए की पेन्शन मिलेगी। उन्होंने कहा कि इससे बेहतर किसी ने कोई व्यवस्था की हो तो बताए। भाजपा वाले बतायें कि कितने अच्छे दिन ले आए। लाइन में लगे लोगों की मदद किसी ने नही की। प्रधानमंत्री बतायें कि कितना कालाधन जमा हुआ और इसके आने के बाद कितना आतंकवाद खत्म हुआ।

 सपा अध्यक्ष ने प्रधानमंत्री पर तंज कसते हुए कहा कि गांव के गरीब गंगा की तरफ हाथ रखकर सच्ची कसम खाते हैं, जिसको काशी ने चुनकर भेजा हो, उस पर हमें कितना भरोसा करना चाहिए। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री कह कर चले गए कि गंगा मैया ने बुलाया है। उत्तर प्रदेश के चुनाव में आये कहा कि यहां के लोगों ने हमें गोद लिया है। अखिलेश ने कहा कि अभी तो कमाल हो गया, प्रधानमंत्री कहतें हैं हम दिवाली पर नहीं रमजान पर बिजली देते हंै। अखिलेश ने कहा कि बनारास के सबसे बुजुर्ग विधायक श्यामदेव चैधरी के कहने से हमने काशी को चैबीस घण्टे बिजली दी। वह धरना पर बैठे गए थे और बाद में हमने उन्हें बुलाया था, उनके साथ भाजपा के बड़े नेता आये थे। तब विधायक ने काशी को चैबीस घण्टे बिजली चाहने की बात कही थी। इस पर हमने कहा कि आपने प्रधानमंत्री को चुना लेकिन आप यहां आये हो। अखिलेश ने कहा कि इसके बाद से ही हम वहां चैबीस घण्टे बिजली दे रहे हैं।
 सपा अध्यक्ष ने कहा कि प्रधानमंत्री गंगा मैया की कसम खायें और बतायें कि समाजवादी सरकार वहां चैबीस घण्टे बिजलली दे रही है या नहीं? उन्होंने प्रधानमंत्री को लेकर कहा कि आप गंगा मैया को बहुत मानते हो लेकिन गंगा पहले हमारे वहां कन्नौज से होकर गुजरती है। आप दिवाली और रमजान की बात बाद में करना पहले काशी की बात करो कि वहां चैबीस घण्टे बिजली मिल रही है या नहीं।
 
गुजरात के गधों का प्रचार नहीं करें अमिताभ
अखिलेश ने कहा कि टीवी पर विज्ञापन आता है जिसमें एक गधा आता है। हम सदी के महानायक से कहेंगे कि गुजरात के गधों का प्रचार बंद करिये। गुजरात के लोग गुजरात के गधों का प्रचार कराते हैं। श्मशान और कब्रिस्तान की बात करते हैं, ना जाने कौन उनको ये सब बताता है। अब ऐड गधे के भी होने लगे, देश कहां जाता है।
 
हम तीन चरण में बढ़त पर
इसे बाद अमेठी के गौरीगंज राकेश प्रताप सिंह के समर्थन मे सभा करने पहुंचे अखिलेश यादव ने गायत्री प्रसाद प्रजापति पर तंज कसा। अखिलेश ने कहा कि उनको भी जिता देना, हालांकि वह आज कल न्यूज़ की सुर्खियों में छाये है। इसके बाद अखिलेश यादव ने कहा कि हमने प्रदेश में एम्बुलेंस चलाई। अखिलेश ने कहा कि नौ साल से लखनऊ में बसपा ने हर जगह हाथी खड़ा किया है। मैंने आज तक चलते हुए नहीं देखा। उन्होंने कहा कि हमने तीन माह में प्रदेश के तीन गांव में सोलर बिजली दी है। अब साइकिल की रफ़्तार बहुत आगे है। हम तीन चरण में बढ़त पर हैं। अखिलेश ने एक बार फिर कहा कि हमारी पत्थर वाली बुआ से बचकर रहना। मोदी जी कह रहे है सपा वाले जमीन कब्ज़ा कर रहे है। हमसे कहो सूची दो मैं खुद उनको निकल दूंगा। जांच में पूरी मदद करेंगे। स्मार्ट फोन से सभी सरकार के साथ सीधी जुड़ेगी।
 वहीं अमेठी में सपा प्रत्याशी गायत्री प्रजापति चुनावी सभा के मंच पर अखिलेश के आने से पहले ही अपनी बात कहने के दौरान रोने लगे। इसके बाद वह मंच से उतर गए। उन्होंने रोते हुए जनता से कहा कि वह आम लोगों के बीच के हैं और जब तक चुनावों का परिणाम नहीं आ जाता तब तक वह चुनाव के किसी मंच पर नहीं बैठेंगे। उन्होंने कहा कि मैं आज यहां पर सीएम अखिलेश यादव के साथ नहीं खड़ा रहूंगा।
 
गायत्री का नाम लिए बगैर जिताने की अपील
इसके बाद यहां पहुंचे अखिलेश ने कहा कि बदायूं वाली घटना झूठी निकली, सुलतानपुर वाले मामले में भी ऐसा रहा। सुप्रीम कोर्ट, हाईकोर्ट का हर फैसला माना जायेगा। उन्होंने कहा कि सुलतानपुर के विधायक अरूण वर्मा के मामले में जांच हुई लेकिन कुछ नहीं निकला। उन्होंने लोगों से कहा कि बदायूं और सुलतानपुर वाली बातें आप जानते हो, इसलिए साजिश से सावधान रहा। साइकिल चुनाव चिन्ह की मदद करना, जीताना। समाजवादियों ने लोगों को सम्मान दिया। उन्होंने अमेठी में राजघराने की भाजपा प्रत्याशी गरिमा सिंह और कांग्रेस प्रत्याशी अमिता सिंह को लेकर कहा कि अगर दो रानी चुनाव लड़ेंगी तो फायदा किसे होगा? हमने तो तब भी मदद कर दी थी, जब घर में कब्जा हो रहा था। इसलिए हैण्डल को सही पकड़ोगे, बैलेंस सही बनाओ, पैडल सही मारोगे तो साइकिल की सरकार बनेगी। खास बात है कि अखिलेश ने मंच से गायत्री प्रजापति का नाम नहीं लिया। उन्होंने पार्टी को जिताने की अपील की।


अधिक राज्य की खबरें