कुंबले को किसी कीमत में कोच नहीं देखना चाहते हैं विराट कोहली : रिपोर्ट्स
एक घंटे तक चली इस बैठक में कोहली ने दो-टूक अंदाज में अनिल कुंबले के खिलाफ अपनी आपत्ति दर्ज की।


लंदन : भारतीय कप्तान विराट कोहली ने टीम इंडिया के लिए कोच नियुक्ति को लेकर फिर से बोर्ड के सामने मुश्किल हालात पैदा कर दिए हैं। अंग्रेजी अखबार टेलीग्राफ की रिपोर्ट के अनुसार कोहली ने शनिवार को क्रिकेट अडवाइजरी कमिटी (CAM) से मुलाकात में एक बार फिर कुंबले के लिए अपनी बहुत मजबूत शंकाए अडवाइजरी कमिटी के सामने रखी हैं। इसके बाद से सीएसी सदस्यों सचिन तेंडुलकर, सौरभ गांगुली और वीवीएस लक्ष्मण के लिए बहुत परेशानी की स्थिति हो गई है। 

कोहली ने सचिन-सौरभ और लक्ष्मण से बीसीसीआई सेक्रेटरी अमिताभ चौधरी, सीईओ राहुल जौहरी और जनरल मैनेजर डॉक्टर एमवी श्रीधर के साथ मुलाकात की। एक घंटे तक चली इस बैठक में कोहली ने दो-टूक अंदाज में अनिल कुंबले के खिलाफ अपनी आपत्ति दर्ज की। रिपोर्ट के अनुसार सोमवार को भारतीय टीम के कोच के साथ सीएसी सदस्य बैठक करेंगे। 

सूत्रों के अनुसार सीएसी के तीनों पूर्व खिलाड़ी इस नए संकट से परेशान हैं। सूत्र के अनुसार, 'कोहली ने साफ तौर पर कुंबले के साथ अपनी परेशानी का जिक्र किया। कोहली के रवैये से ऐसा लग रहा है कि दोनों के बीच समस्याएं अब सुलझ सकने के स्तर पर नहीं रहीं। हालांकि, सीएसी अब अनिल कुंबले से मुलाकात कर उनका पक्ष भी जानेगी।'

कुंबले को कोच पद से हटाने का फैसला सीएसी के लिए हद से अधिक मुश्किल है। इसके कुछ बहुत मजबूत कारण हैं। सूत्र का कहना है कि कुंबले का रेकॉर्ड बतौर कोच बेदाग और बेहद सफल है। ऐसे में उन्हें 1 साल बाद ही चलता करना मुश्किल है। सूत्र के अनुसार, 'दूसरी मुश्किल है कि टीम कैप्टन के हाथ में किस स्तर तक सत्ता और फैसले लेने की ताकत दी जा सकती।' इसके साथ ही सीएसी अगर कोच कुंबले को हटाने का फैसला करती है तो कुछ और भी सवाल उठेंगे जिनका जवाब सीएसी के पास नहीं होगा। 

रिपोर्ट के अनुसार कुंबले को हटाने पर सीएसी को इसका भी जवाब देना होगा कि कोहली की प्रतिभा और सफलता एक पहलू है, लेकिन क्या उन्हें पूरे क्रिकेट प्रशासन को चलाने की सत्ता मिल जानी चाहिए? इस तरह के मुश्किल सवालों के जवाब देना सीएसी के तीनों दिग्गजों के लिए भी बहुत मुश्किल है। रिपोर्ट के अनुसार सीएसी को इसका भी डर है कि यदि नया कोच नियुक्त भी किया जाए तो क्या होगा अगर कोहली को उससे भी परेशानी हो? 

बता दें कि वीरेंद्र सहवाग ने भी कोच पद के लिए आवेदन किया है। 6 आवेदनकर्ताओं में से यदि अभी की परिस्थितियों को देखते हुए वीरेंद्र सहवाग को कोच बनाया जाए तो इसकी कोई गारंटी नहीं है कि उनकी कार्यप्रणाली से विराट कोहली को परेशानी न हो। ऐसे कई सवाल हैं जिनका जवाब सीएसी सदस्यों के पास नहीं है। 


अधिक खेल की खबरें