आरोप लगाने की बजाय आत्मचिंतन करे पार्टियाँ: रीता बहुगुणा
मायावती के बयान पर बीजेपी का बचाव करते हुए रीता बहुगुणा ने अखिलेश यादव के कदम को याद दिलाया।


लखनऊ :  उत्तर प्रदेश की कैबिनेट मंत्री डॉ रीता बहुगुणा जोशी ने रविवार को बसपा सुप्रीमो मायावती के इस आरोप पर पलटवार किया कि भाजपा दूसरे राजनैतिक दलों को तोड़कर लोकतन्त्र की हत्या कर रही है. कानपुर में जारी एक बयान में रीता बहुगुणा ने कहा कि विपक्ष में आये बिखराव की वजह से तमाम विधायक अपनी अपनी पार्टी छोड़कर भाजपा का रूख कर रहे हैं. एक निजी कार्यक्रम में भाग लेने के लिये कानपुर पहुॅची थीं कैबिनेट मंत्री डॉ रीता बहुगुणा जोशी। 

कैबिनेट मंत्री डॉ रीता बहुगुणा जोशी आज एक निजी कार्यक्रम में भाग लेने के लिये कानपुर पहुॅची। इस दौरान उन्होंने कॉग्रेस, सपा और बसपा को भाजपा पर तोहमत लगाने की बजाय आत्मचिंतन करने की सलाह दी। मीडिया से बात करते हुए उन्होने कहा कि अगर गुजरात में कॉग्रेस और यूपी में सपा-बसपा के विधायक टूट कर भाजपा में जा रहे हैं तो इसकी मूल वजह विपक्षी दलों की एकता में आयी दरार है। उन्होंने कह कि हर राजनेता को अपना भविष्य तय करने का अधिकार है। रीता बहुगुणा ने कहा कि ये विपक्षी पार्टियॉ अपने खुद का अस्तित्व बचाने के लिये जूझ रही हैं। ऐसे में विधायकों का सत्ता की तरफ रूख करना स्वभाविक है। 

मायावती के बयान पर बीजेपी का बचाव करते हुए रीता बहुगुणा ने अखिलेश यादव के कदम को याद दिलाया। उन्होने कहा की अखिलेश यादव ने भी सत्ता में रहते हुए कई विपक्षी नेताओं को साथ मिला लिया था। इस दौरान उन्होंने गुजरात के मामले में बीजेपी का बचाव किया। उन्होंने कि भाजपा खरीद फरोख्त की राजनीति में विश्वास नहीं करती है। उनका मानना है कि राज्य में विधान सभा चुनाव होते हैं। ऐसे में पार्टियों में आने जाने का दौर एक सामान्य राजनैतिक प्रक्रिया है।


अधिक राज्य की खबरें