पाकिस्तान को ट्रैक पर लाती है सेना : मुशर्रफ
दुबई में दिए गए इस इंटरव्यू में मुशर्रफ ने कहा कि सभी एशियाई देशों ने तानाशाहों के जमाने में तरक्की देखी है।


इस्लामाबाद : पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति जनरल परवेज मुशर्रफ ने कहा है कि मिलिटरी देश को हर बार ट्रैक पर लाती है, लेकिन लोकतांत्रिक सरकारें उसे पटरी से उतार देती हैं। एक इंटरव्यू में मुशर्रफ ने पाकिस्तान के पूर्व सैन्य तानाशाहों की तारीफ करते हुए कहा कि तानाशाह हमेशा पाकिस्तान को सही रास्ते पर लाते हैं, जबकि नागरिक सरकारें उसे बर्बाद कर देती हैं। उन्होंने दावा किया कि मिलिटरी रूल हमेशा पाकिस्तान में तरक्की लाया है। उन्होंने कहा कि जहां तक पाकिस्तान में मार्शल लॉ लागू करने की बात है, यह वक्त की जरूरत थी।

तरक्की के बिना आजादी का क्या मतलब?
दुबई में दिए गए इस इंटरव्यू में मुशर्रफ ने कहा कि सभी एशियाई देशों ने तानाशाहों के जमाने में तरक्की देखी है। जब तक तरक्की और खुशहाली रहती है तब तक इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि देश में अवाम की चुनी सरकार पाकिस्तान की सत्ता चला रही है या एक तानाशाह। उन्होंने कहा, 'चुनाव कराने और जनता को आजादी देने का मतलब क्या है, अगर देश की तरक्की ही न हो।'

जनरल जिया की तारीफ के बांधे पुल
मुशर्रफ ने पूर्व तानाशाह फील्ड मार्शल अयूब खान और जनरल जिया-उल-हक के शासन की तारीफ में भी कसीदे पढ़े। मुशर्रफ ने कहा, 'अयूब खान ने देश में तरक्की लाने का रेकॉर्ड बनाया।' जनरल जिया के शासन का जिक्र करते हुए मुशर्रफ ने कहा, 'अफगानिस्तान के हमले के वक्त सोवियत यूनियन के खिलाफ अमेरिका और मुजाहिदीन की मदद का तानाशाह का फैसला सही था।'

'नवाज की इंडिया पॉलिसी बिकी हुई'
मुशर्रफ ने भारत पर आरोप लगाते हुए कहा कि नवाज शरीफ की इंडिया पॉलिसी पूरी तरह बिकी हुई थी। उन्होंने आरोप लगाया, 'भारत का बलूचिस्तान में दखल है और देश के खिलाफ है। जो भी देश के खिलाफ काम कर रहा है उसे मार देना चाहिए।' मुशर्रफ ने 1999 में किए गए तख्तापलट का भी जिक्र किया, जिसमें उस वक्त के पीएम नवाज शरीफ की लोकतांत्रिक सरकार से सत्ता छीन ली गई थी। उन्होंने कहा कि देश में लोगों की मांग के अनुसार तख्तापलट किया गया था। पाकिस्तान के नागरिकों को चुनी हुई सरकार को बेदखल करने का हक दिया जाना चाहिए।


अधिक विदेश की खबरें