2018 तक 30 लाख नौकरियां: स्टडी
रिपोर्ट के मुताबिक, स्किल की कमी को पूरा करने की जरूरत है।


नई दिल्ली : 4G टेक्नॉलजी की शुरुआत के साथ डेटा में वृद्धि, बाजार में नई कंपनियों का आगमन, डिजिटल वॉलेट्स का चलन और स्मार्टफोन्स की बढ़ती लोकप्रियता से टेलिकॉम सेक्टर में 2018 तक 30 लाख नौकरियों के अवसर पैदा होंगे। एक स्टडी रिपोर्ट में यह बात कही गई है।

असोचैम-केपीएमजी की जॉइंट स्टडी रिपोर्ट के मुताबिक, 5G, M2M की उभरती टेक्नॉलजी और इन्फ़र्मेशन ऐंड कम्युनिकेशन टेक्नॉलजी (ICT) में विकास से 2021 तक 8,70,000 लोगों को नौकरी मिलने की संभावना है। 

इसमें कहा गया है कि आने वाली डिमांड को पूरा करने के लिए इस सेक्टर में मौजूद लोगों की संख्या या उनका स्किल पर्याप्त नहीं है। 

रिपोर्ट के मुताबिक, 'स्किल की कमी को पूरा करने की जरूरत है। इसके लिए इंफ्रा और साइबर सिक्यॉरिटी एक्सपर्ट्स, ऐप्लिकेशन डिवेलपर्स, सेल्स एग्जीक्युटिव्स, इंफ्रास्ट्रक्चर टेक्निशन, हैंडसेट टेक्निशन आदि के रूप में स्किल्ड मैनपावर के पहचान की जरूरत होगी। इसके साथ ही मौजूदा टेक्नॉलजी पर काम कर रहे लोगों को अपडेट करना होगा।'

पिछले कुछ सालों में सब्सक्राइबर्स बेस के मामले में टेलिकॉम सेक्टर ने 19.6 पर्सेंट कंपाउंड ऐनुअल ग्रोथ (सीएजीआर) हासिल की और राजस्व के मामले में 7.07 पर्सेंट सीएजीआर की दर से वृद्धि हुई। 

रिपोर्ट में कहा गया है, 'टेलिकॉम सर्विस प्रोवाइडर्स अपने नेटवर्क और इसके अधिक मॉर्डन बनाने में भारी निवेश कर रहे हैं। 2017 की पहली तीमाही में ऑपरेटर्स का पूंजीगत व्यय निवेश 85,003 करोड़ रुपये रहा।'


अधिक बिज़नेस की खबरें