तो इसलिए खाना खाते समय आता है पसीना
तो इसलिए खाना खाते समय आता है पसीना


बहुत से लोग तीखा और चटपटा खाना पंसद करते है। खाना खाने के अलावा भी कई लोगों को पसीना आने की समस्या रहती है। कई बार तो ठंडा मौसम होने पर पसीना आने लगता है। लोग इसे आम समस्या समझ कर इग्नोर कर देते है लेकिन बेवजह और खाते समय पसीना आना हाइपरहाइड्रोसिस बीमारी का संकेत हो सकता है। इसलिए अगर आपको भी खाना खाते समय या ठंडे मौसम में आता है तो आपको तुरंत डॉक्टर से चेकअप करवाना चाहिए।

1. क्या है हाइपरहाइड्रोसिस
गर्मी में बहुत अधिक पसीना आना, ठंड के मौसम और खाना खाते समय पसीना इस बीमारी का संकेत हो सकता है। इस बीमरी से ग्रस्त लोगों में पसीने की ग्रंथि बहुत अधिक सक्रिय हो जाती है। जिससे उन्हें बहुत अधिक पसीना आना शुरु हो जाता है। इसके अलावा इस बीमारी में पसीना आने का कारण डायबिटीज, मेनोपॉज, लो ब्लड ग्लूकोज या हाइपरथायराइडिज्म भी हो सकता है।

2. इस बीमारी के लक्षण
गर्मी के मौसम में पसीना आना तो बात है लेकिन अगर मौसम ठीक होने पर भी आपको पसीना आता है तो ये इस बीमारी का संकेत हो सकता है। इस बीमरी के कारण आपके पसीने में से बदबू आने लगती है। इसके अलावा यह बीमारी होने पर आपको ठंड के मौसम में भी पसीना आने की समस्या हो जाती है।

3. उपचार
इस बीमारी के लक्षण नजर आते ही आपको तुंरत डॉक्टर से चेकअप करवाना चाहिए। डॉक्टर आपको बोटुलिनम टॉक्सिन टाइप ए का इंजेक्शन, मरहम या दवा की सलाह देते है। इससे पसीना ग्रंथि की तंत्रिकाओं को शांत करके इसे आने से रोकता है। अगर आपकी यह बीमारी बहत ज्यादा बढ़ गई हो तो आपको इसके लिए ऑपरेशन भी करवा पड़ सकता है।

4. घरेलू उपाएं
अगर आपकी यह बीमारी शुरुआती समय में है तो इसे आप घरेलू उपों से भी कम कर सकते है। इस बीमारी को कम करने के लिए कॉटन, ऊन या रेशम के कपड़े पहनें ताकि आपकी त्वचा में पसीना कम से कम आएं। पैरों में पसीना आने पर आपको अपने रोजाना धूप में सूखाने चाहिए। इससे पैरों में पसीना कम आता है। इसके अलावा नियमित रुप से मेडिटेशन और योगा करें। इससे तनाव म होने से आपको पसीना कम आएगा।


अधिक सेहत/एजुकेशन की खबरें