बुधवार 20 सितम्बर का राशिफल
आचार्य सिद्धार्थ शास्त्री 8707614345, 7236924618


मेष:- पुरानी गलतियों से सीख लेते हुए वर्तमान को सुधारने का प्रयास करें। अच्छे कायरें से परिजनों के दिल में जगह बनायें। विद्यार्थी शिक्षा-प्रतियोगिता में लापरवाही न बरतें। 

बृषभ:- भौतिक सुख-साधनों की लालसा बढ़ेगी। महत्वपूर्ण कार्य की पूर्ति में असमर्थता जैसी स्थिति मन को निराश करेगी। किसी नयी दिशा में सकारात्मक सोच अवश्य रंग लायेगी। 

मिथुन:- मूल्यवान समय को व्यर्थ के कायरें में न जाया होने दें। व्यावसायिक यात्रा द्वारा लाभ संभव। संवेदनशील शरीर ग्रहों की प्रतिकूलता से बीमार पड़ सकता है। घर में खुशहाली रहेगी। 

कर्क:- सब कुछ सामान्य होते हुए भी मन अरुचि का शिकार होगा। रोजगार में नये लाभकारी अवसर प्राप्त होंगे। पिता के स्वास्य के प्रति सचेत रहें। जीवन साथी का भावनात्मक सहयोग उत्साहित करेगा। 

सिंह:- किसी की अस्वस्थता से परिवार में कष्टप्रद वातावरण रहेगा। महत्वपूर्ण कार्यवश घर से दूर जाना पड़ सकता है। महत्वपूर्ण कायरें के प्रति आलस्य न करें। 

कन्या:- प्रतिभाओं के बावजूद हीन भाव प्रतिभाओं के लाभ से वंचित करेगा। कल्पनाओं में जीना छोड़ भौतिक जगत के अनुकूल चलने का प्रयास करें। जीवन साथी के स्वास्य के प्रति सचेत रहें। 

तुला:- योजनाओं के फलीभूत होने से मन प्रसन्न होगा। मस्त-मौला मन ब्यर्थ के कायरे में समय जाया कर महत्वपूर्ण कार्य के प्रति लापरवाह होगा। शिक्षा-प्रतियोगिता में परिश्रम तीव्र होगा। 

वृश्चिक:- नयी घरेलू जिम्मेदारियों के पैदा होने से व्यय संभव। प्रयासरत कोई महत्वपूर्ण कार्य हल होने से मन प्रसन्न होगा। नये कायरें के क्रियान्वयन हेतु प्रयत्न तीव्र होगा। 

धनु:- नये क्षेत्रों मे प्रयास से लाभ संभव। समस्याओं के समाधान से उत्साह में वृद्धि होगी। नये संबंधियों के सहयोग से आर्थिक कठिनाइयां दूर होगी। रोजगार में अति 
व्यस्तता रहेगी। 

मकर:- सुख-साधनों की लालसा बढ़ेगी। महत्वपूर्ण कार्य की पूर्ति में असमर्थता जैसी स्थिति मन में निराशा पैदा करेगी। पुरानी घटनाओं के स्मरण से मन को कष्ट संभव। घर-परिवार में प्रसन्नता का माहौल रहेगा।

कुंभ:- किसी महत्वपूर्ण निर्णय लेने में मन दुविधाग्रस्त होगा। मित्रवत संबंधों का लाभ प्राप्त होगा। आवेश में लिये गये निर्णय से पश्चाताप संभव। जीविका क्षेत्र संबंधी कोई यात्रा करनी पड़ सकती है। 

मीन:- मन को सकारात्मक दिशा की ओर केंद्रित करें। भाग्य से प्राप्त अच्छी-बुरी सभी स्थितियों के साथ समझौतावादी रवैया अपनायें। अपने सुख-दुख को छोड़ परिजनों के सुख के बारे में सोचें। 


अधिक धर्म कर्म की खबरें