1947 में हुए भारत विभाजन के बाद यह जगह पाकिस्तान के सिंध प्रांत हिस्से में चली गई थी।