तीन तलाक जैसी सामाजिक बुराई से लाखों समाज की बहने खून के आंसू रो रही थीं।