देशभर में चार मुख्य भाषाओं में करीब 35,000 ग्राहक जागरूरकता अभियान अब तक आयोजित किए जा चुके हैं।