'वंदे मातरम' से क्यों है मुस्लिमों को परहेज

'वंदे मातरम' से क्यों है मुस्लिमों को परहेज

मध्य प्रदेश में कमलनाथ सरकार ने वंदे मातरम की अनिवार्यता पर अस्थायी रूप से रोक लगाने के बाद अब यू-टर्न ले लिया है. अब ना केवल इसका आयोजन पुलिस बैंड के साथ होगा बल्कि जनता भी इसमें शामिल हो सकेगी. आइए जानते हैं वंदे मातरम को लेकर क्या हैं दस खास बातें और वो कौन सी बात है, जिसके चलते मुस्लिम समुदाय इसे गाने से परहेज करता है.

मंत्री बनाने के तीन दिन बाद कमलनाथ ने बांटे विभाग, जानिए किसको क्या मिला?

मंत्री बनाने के तीन दिन बाद कमलनाथ ने बांटे विभाग, जानिए किसको क्या मिला?

मध्यप्रदेश में मंत्रीमंडल के गठन के साथ-साथ विभागों के भी बंटवारे हो गए हैं. मुख्यमंत्री कमलनाथ ने अपने पास 10 विभाग रखे हैं, जिसमें रोजगार और कौशल विभाग प्रमुख है. साथ ही मुख्यमंत्री के पास अभी वो विभाग भी हैं जो अभी तक किसी आवंटित नहीं किए गए हैं.

कमलनाथ के बयान पर माफी मांगें राहुल गांधी, नहीं तो यूपी, बिहार में घुसने नहीं देंगे: बीजेपी

कमलनाथ के बयान पर माफी मांगें राहुल गांधी, नहीं तो यूपी, बिहार में घुसने नहीं देंगे: बीजेपी

मध्य प्रदेश के नए मुख्यमंत्री कमलनाथ के एक बयान पर सियासत तेज हो गई है. दरअसल कमलनाथ ने कहा था कि मध्य प्रदेश के लोग बेरोज़गार रह जाते हैं, जबकि यूपी-बिहार के लोग नौकरियां ले जाते हैं. उधर मामले में उत्तर प्रदेश बीजेपी ने कमलनाथ के बयान पर कड़ा ऐतराज जताते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर हमला किया है

कमलनाथ के शपथ ग्रहण में कांग्रेस का शक्ति प्रदर्शन, ये नेता होंगे शामिल

कमलनाथ के शपथ ग्रहण में कांग्रेस का शक्ति प्रदर्शन, ये नेता होंगे शामिल

जेडी (एस) नेता और कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी के शपथ ग्रहण समारोह के लगभग सात महीने बाद एक और मुख्यमंत्री के आधिकारिक ऐलान के साथ ही विपक्षी एकता को दिखाने की कोशिश की जाएगी.

कमलनाथ का दावा- सोनिया की तरह राहुल भी कराएंगे सत्ता में UPA की वापसी

कमलनाथ का दावा- सोनिया की तरह राहुल भी कराएंगे सत्ता में UPA की वापसी

विधानसभा चुनावों में कांग्रेस की कर्जमाफी का वादा बेहद सकारात्मक साबित हुआ है. नई सरकार को अब चुनावी घोषणाओं को पूरा करने के लिए जूझना होगा. सरकार बनने के तुरंत बाद कृषि ऋण माफी का दबाव नई सरकार पर पड़ने वाला है. हालांकि विधानसभा चुनाव परिणाम के बाद मध्य प्रदेश के भावी मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कार्यभार संभालने के 10 दिन के अंदर कृषि ऋण माफी के कांग्रेस के वादे को दोबारा दोहराया है. सीएनएन-न्यूज़ 18 से बात करते हुए कमलनाथ ने भरोसा जताया कि 2019 लोकसभा चुनाव में कांग्रेस पूर्ण बहुमत से सरकार बनाएगी. उन्होंने कहा कि सोनिया गांधी ने तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को चुनौती देते हुए चुनाव लड़ा था और यूपीए की सत्ता में वापसी हुई थी. ऐसे में 2019 लोकसभा चुनाव में राहुल गांधी मजबूत चुनौती देंगे और पीएम मोदी को सत्ता से बाहर कर देंगे. मुख्यमंत्री बनने के बाद सबसे बड़ी चुनौती को लेकर सवाल पर कमलनाथ कहते हैं, 'राज्य में सीएम पद की जिम्मेदारी को लेकर मेरा पहला अनुभव है. इसलिए मैं इसे बड़ी चुनौती मानता हूं. केंद्र में मंत्री होना और राज्य का मुख्यमंत्री होना बहुत अलग है. मुझे लगता है कि मंत्री होने के मुकाबले यह बड़ी चुनौती है.' वहीं लोकसभा चुनाव को लेकर उन्होंने कहा कि हमारे सामने सबसे बड़ी चुनौती आगामी लोकसभा चुनाव है, जो अब कुछ ही महीने दूर है. उन्होंने कहा, 'हमनें राज्य की तस्वीर देखी है. हर तबका संकट में है, इसलिए हमें राज्य में बेहतर काम करने का संदेश देना है. हम विकास के एजेंडे पर ही लोकसभा चुनाव में सफलता पा सकता हैं. मध्य प्रदेश पर आर्थिक संकट है. राज्य दिवालिया होने की कगार पर है. हम कुछ संसाधनों में कटौती करके राज्य को मजबूती की ओर ले जाना है.'

कानपुर का 'कमल' बना मध्य प्रदेश का 'नाथ', सहारनपुर में है ससुराल

कानपुर का 'कमल' बना मध्य प्रदेश का 'नाथ', सहारनपुर में है ससुराल

मध्य प्रदेश के नवनिर्वाचित मुख्यमंत्री कमलनाथ का उत्तर प्रदेश से भी गहरा कनेक्शन रहा है. कमल नाथ का जन्म न यूपी के कानपुर में हुआ. बल्कि उन्होंने यहां से शिक्षा-दीक्षा भी ली. इतना ही नहीं, एक राजनेता के तौर पर उनका सियासी सफर भी कानपुर से ही शुरू हुआ. इतना ही नहीं यूपी के सहारनपुर में कमल नाथ की ससुराल भी है.

MP Assembly Election Result 2018: जिंदगी भर नहीं भूलेगी वो ‘चुनाव’ की रात, ‘निर्दलियों’ ने बनवाई सरकार

MP Assembly Election Result 2018: जिंदगी भर नहीं भूलेगी वो ‘चुनाव’ की रात, ‘निर्दलियों’ ने बनवाई सरकार

‘जिंदगी भर नहीं भूलेगी वो बरसात की रात’ रफी के इस गाने की तर्ज पर मध्य प्रदेश के कई धाकड़ नेताओं के लिए 11-12 दिसंबर की रात भी न भूलने वाली साबित हुई. रोलर कोस्टर राइड की तरह उतार-चढ़ाव से भरपूर जिसने भोपाल से लेकर दिल्ली तक तमाम दिग्गजों की नींद उड़ा दी.

वो 30 सीटें जो बिगाड़ सकती हैं MP में बीजेपी का खेल!

वो 30 सीटें जो बिगाड़ सकती हैं MP में बीजेपी का खेल!

मध्य प्रदेश का विंध्य जिसे बघेलखंड के नाम से भी जाना जाता है, देश का शायद इकलौता ऐसा इलाका है जहां कुल आबादी का सबसे बड़ा हिस्सा सवर्ण जातियां हैं. इस इलाके के सतना और रीवा जिले की कुछ विधानसभा सीटों पर तो सिर्फ ब्राह्मणों की आबादी 40% भी पार कर जाती है. रीवा के 'सफ़ेद शेर' के नाम से मशहूर कांग्रेसी नेता श्रीनिवास तिवारी यहां के सबसे बड़े ब्राह्मण लीडर माने जाते थे.

बीजेपी की राह पर कांग्रेस! मध्य प्रदेश में चुनाव जीती तो बनाएगी रामपथ

बीजेपी की राह पर कांग्रेस! मध्य प्रदेश में चुनाव जीती तो बनाएगी रामपथ

हर पंचायत में गोशाला बनाने के वादे के बाद अब कांग्रेस ने मध्य प्रदेश में राम पथ बनवाने का ऐलान किया है. कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने दावा किया है कि अगर कांग्रेस सत्ता में आई तो वो रामपथ भव्य तरीके से बनाया जाएगा. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने 12 साल पहले रामपथ बनाने का वादा किया था, लेकिन आज तक अधूरा है.

मध्य प्रदेश ​: ​​ ​​कांग्रेस ​​फर्जी वोटर कार्ड की शिकायत लेकर चुनाव आयोग पहुंची​

मध्य प्रदेश ​: ​​ ​​कांग्रेस ​​फर्जी वोटर कार्ड की शिकायत लेकर चुनाव आयोग पहुंची​

इस मुद्दे पर अभी चुनाव आयोग का कहना है कि उसने दो टीम जांच के लिए मध्य प्रदेश भेजा है।

कमलनाथ का शिवराज पर हमला, बोले- वो मेरे मित्र लेकिन कुछ मित्र नालायक होते हैं

कमलनाथ का शिवराज पर हमला, बोले- वो मेरे मित्र लेकिन कुछ मित्र नालायक होते हैं

मध्‍यप्रदेश में चुनाव से पहले जनता के बीच अपनी जगह मजबूत बनाने के लिए कांग्रेस और भाजपा दोनों के बीच तगड़ी टक्‍कर चल रही है. कांग्रेस के प्रदेश अध्‍यक्ष बनने के बाद से ही कमलनाथ लगातार प्रदेश के मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को लेकर बयानबाजी कर रहे हैं.