अलौकिक शक्तियों के साथ डर का अहसास कराने जल्द ही स्टार प्लस पर आ रहा है नया शो 'दिव्य दृष्टि'

अलौकिक शक्तियों के साथ डर का अहसास कराने जल्द ही स्टार प्लस पर आ रहा है नया शो 'दिव्य दृष्टि'

मनोरंजन की दुनिया का सबसे बड़ा प्लेटफ़र्म स्टार प्लस एक बार फिर आपको अपने नए टीवी शो दिव्य दृष्टि से डर और अलौकिक शक्तियों के संगम में डुबाने को तैयार है। ये कहानी है दो बहनो दिव्य और दृष्टि की। जिनके पास अलौकिक शक्तियां जिससे ये न केवल भविष्य देख सकती है बल्कि उसे बदल भी शक्ति है।

देखिए ! हर सोम से शनि 'एक रावण के विरुद्ध एक मासूम सी रानी की 'यलगार'

देखिए ! हर सोम से शनि 'एक रावण के विरुद्ध एक मासूम सी रानी की 'यलगार'

आज के बदलते दौर महिलाएं अगर सबसे ज्यादा किसी भी चीज से पीड़ित है तो वो है छेड़छाड़ जो कब कहाँ और किस समय किस महिला के साथ हो जाये किसी को भी नही पता। इसी जवलंत मुद्दे पर स्टार भारत ने पेश किया है अपना नया टीवी शो 'एक थी रानी एक था रावण'।

खुशियों के साथ आपको हँसा रहा है स्टार प्लस का नया शो 'दिल है हैप्पी है जी' ने

खुशियों के साथ आपको हँसा रहा है स्टार प्लस का नया शो 'दिल है हैप्पी है जी' ने

खुशियों कॉकटेल के साथ स्टार प्लस एक बार फिर अपने दर्शकों को गुदगुदा रहा है। स्टार प्लस के नए शो 'दिल है हैप्पी है जी' ने अपनी शुरुआत के साथ ही दर्शकों में अपनी पकड़ बना ली है।

फिल्म इंडस्ट्री में आने वाले नए लोगो को अपने नए टीवी शो में काम देगी वेलकम क्रिएशन्स : जे.के सिन्हा

फिल्म इंडस्ट्री में आने वाले नए लोगो को अपने नए टीवी शो में काम देगी वेलकम क्रिएशन्स : जे.के सिन्हा

फिल्म डायरेक्टर व् प्रोडूसर जे.के सिन्हा इस वर्ष इस वर्ष नए कलाकरों को वेलकम क्रिएशन्स द्वारा बनाये जाने वाले टी वी शो और फिल्म में काम देंगे. पायनियर एलायंस से खास बातचीत में सिन्हा ने कहा कि मेरा मकसद फिल्म इंडस्ट्री में काम करने के इच्छुक नए लोगो को मौका देना है

मेरा शो ‘माय नेम इज़ लखन’ अच्छाई और बुराई के बीच की लड़ाई है :  अर्चना पुरन सिंह

मेरा शो ‘माय नेम इज़ लखन’ अच्छाई और बुराई के बीच की लड़ाई है : अर्चना पुरन सिंह

‘माय नेम इज़ लखन’ अच्छाई और बुराई के बीच की लड़ाई की कहानी है, जिसे एक बेटे और पिता के जरिये दर्शाया गया है, जहां बेटा ‘बुरा’ है और पिता ‘अच्छा ’। और उसके बीच है एक ‘ग्रे एरिया’, जोकि मैं हूं। वह मां जोकि बेटे और साथ ही साथ पिता के नजरिये को देखती है। इस सीरीज़ में‍ दिखाया गया है कि आखिरकार जीत किसकी होती है, बुराई की या फिर अच्छातई की।