इस क्रिकेटर ने 43 की उम्र में जड़ा शतक
2016 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले चुके शिवनारायण चंद्रपॉल इस समय फर्स्ट क्लास क्रिकेट में अपनी बल्लेबाजी के कमाल दिखा रहे हैं.


नई दिल्ली : क्रिकेट की दुनिया में यूं तो कई खिलाड़ी बड़ी उम्र तक खेलते रहे हैं. लेकिन उम्र के उस पड़ाव पर भी शानदार खेल का प्रदर्शन सभी के बस की बात नहीं होती. कुछ खिलाड़ी ऐसे होते हैं, जो खेल में उम्र को बस नंबर भर मानते हैं. शिवनारायण चंद्रपॉल ऐसे ही बल्लेबाज हैं. जिन्होंने अपनी बढ़ती उम्र को झुठला दिया है. उनकी उम्र 43 साल से ज्यादा की हो चुकी है, लेकिन वह क्रिकेट में वह अपनी बल्लेबाजी से लगातार कमाल किए जा रहे हैं.

2016 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले चुके शिवनारायण चंद्रपॉल इस समय फर्स्ट क्लास क्रिकेट में अपनी बल्लेबाजी के कमाल दिखा रहे हैं. उन्होंने 43 साल और 85 दिन की उम्र में गुयाना की ओर से खेलते हुए लीवर्ड आइलैंड्स के खिलाफ 109 रनों की पारी खेली.

पिछले 23 सालों में फर्स्ट क्लास क्रिकेट में शतक बनाने वाले वह सबसे उम्रदराज खिलाड़ी हैं. चंद्रपॉल ने ये शतक डब्ल्यूआईसीबी टूर्नामेंट के एक मैच में लगाई. चंद्रपॉल इंग्लिश काउंटी का भी हिस्सा हैं. उनके शानदार प्रदर्शन को देखते हुए इंग्लिश काउंटी लंकाशायर ने इस साल उनका कॉन्ट्रेक्ट रिन्यू किया है. चंद्रपॉल ने 2017 काउंटी चैंपियनशिप में शानदार बल्लेबाजी करते हुए 50 से ज्यादा की औसत से 819 रन बनाए. इसमें तीन शतक भी शामिल हैं. यही कारण है कि लंकाशायर की टीम ने 2018 के लिए चंद्रपॉल से नया करार किया है.

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में सबसे ज्यादा उम्र में शतक लगाने का रिकॉर्ड इंग्लैंड के जैक हॉब्स के नाम पर है. उन्होंने 46 साल की उम्र में 1929 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 142 रनों की पारी खेली थी. इंग्लैंड के ही दूसरे बल्लेबाज ई हेंडरेन ने 45 साल की उम्र में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ही 1934 में 132 रनों की पारी खेली थी.

अधिक खेल की खबरें