दिल्ली टेस्ट: मैथ्यूज और चंडीमल ने जड़े शतक
मैथ्यूज ने तीसरे दिन दूसरे सत्र में अपने करियर का 8वां और भारत के खिलाफ अपना तीसरा शतक जड़ा।


नई दिल्ली : एंजेलो मैथ्यूज (111) और कप्तान दिनेश चंडीमल की शतकीय पारियों ने श्री लंका को भारत के खिलाफ फिरोजशाह कोटला मैदान पर खेले जा रहे तीसरे टेस्ट मैच के तीसरे दिन मुश्किल स्थिति से बाहर निकाल दिया। श्री लंका ने चायकाल तक 4 विकेट के नुकसान पर 270 रन बना लिए थे। हालांकि चायकाल से ठीक पहले रविचंद्रन अश्विन ने मैथ्यूज को पविलियन भेज दिया। 

मैथ्यूज को कई जीवनदान 
मैथ्यूज को अश्विन ने 197वें ओवर की आखिरी गेंद पर विकेटकीपर रिद्धिमान साहा के हाथों आउट करा भारत को दिन की पहली सफलता दिलाई। मैथ्यूज ने तीसरे दिन दूसरे सत्र में अपने करियर का 8वां और भारत के खिलाफ अपना तीसरा शतक जड़ा। मैथ्यूज को हालांकि इस शतक से पहले दो और शतक के बाद एक जीवनदान मिला।

दूसरे दिन रविवार को कप्तान कोहली ने मैथ्यूज को जीवनदान दे दिया था। तीसरे दिन मैथ्यूज 98 रन पर थे तभी ईशांत की गेंद पर रोहित शर्मा ने उनका कैच छोड़ दिया। इसके बाद उन्होंने अपना शतक पूरा किया। शतक के चार रन बाद अतिरिक्त खिलाड़ी विजय शंकर ने रवींद्र जडेजा की गेंद पर मिड-ऑन पर उनका कैच छोड़ा, लेकिन अंतत: साहा ने उनका कैच पकड़ भारत को दिन की पहली सफलता दिलाई। 

चंडीमल का 10वां शतक 
चायकाल के तुरंत बाद कप्तान दिनेश चंडीमल ने भी शतक बनाया। यह उनके टेस्ट करियर का 10वां शतक है। उनके नाम 15 अर्धशतक भी दर्ज हैं। उन्होंने मैथ्यूज के साथ चौथे विकेट के लिए 256 रनों की साझेदारी की। चंडीमल का साथ सदिरा समाराविक्रमा बखूबी दे रहे हैं। चायकाल तक श्रीलंका, भारत से 266 रन पीछे थी। 

खराब फील्डिंग 
दिन की शुरुआत तीन विकेट के नुकसान पर 131 रनों के साथ करने वाली श्रीलंका को मैथ्यूज और चंडीमल ने खराब स्थिति से बाहर निकालते हुए पहले सत्र में कोई भी विकेट नहीं गिरने दिया और मेहमान टीम के खाते में 61 रनों का इजाफा किया। दूसरे सत्र में श्रीलंका ने 78 रन जोड़े। इस जोड़ी को भारतीय गेंदबाजों ने परेशान तो किया लेकिन किस्मत के साथ और भारतीय खिलाड़ियों की खराब फील्डिंग ने उन्हें बचा लिया। हालांकि मैथ्यूज और चंडीमल ने भी संयम के साथ बल्लेबाजी की। 

भारत ने दूसरे दिन अपनी पहली पारी 7 विकेट के नुकसान पर 536 रनों पर घोषित कर दी थी। हालांकि दूसरे दिन काफी ड्रामे के बाद भारत ने अपनी पारी घोषित की थी। श्री लंकाई टीम के खिलाड़ियों द्वारा प्रदूषण की शिकायत करने के बाद दूसरे दिन के दूसरे सत्र में तीन बार दिन का खेल रोक दिया गया था। इसी से परेशान होकर भारतीय कप्तान ने पारी घोषित कर दी थी। 

भारत ने कप्तान विराट कोहली (243) के रेकॉर्ड दोहरे शतक, मुरली विजय (155), रोहित शर्मा (65) की बेहतरीन पारियों के दम पर आसानी से 500 का आंकड़ा पर कर लिया था और वह विशाल स्कोर की ओर बढ़ रही थी, लेकिन श्री लंकाई खिलाड़ियों की बार-बार प्रदूषण की शिकायत के चलते खेल रोके जाने के कारण भारतीय टीम प्रबंधन ने पारी घोषित करने का फैसला किया था। 

अधिक खेल की खबरें