मिलर-क्लासेन ने दिलाई साउथ अफ्रीका को जीत
वनडे सीरीज के चौथे मुकाबले में साउथ अफ्रीका ने भारत को 5 विकेट से हराते हुए पहली जीत दर्ज की।


जोहानिसबर्ग : वनडे सीरीज के चौथे मुकाबले में साउथ अफ्रीका ने भारत को 5 विकेट से हराते हुए पहली जीत दर्ज की। भारत ने पहले बैटिंग करते हुए निर्धारित 50 ओवरों में 7 विकेट के नुकसान पर 289 रन बनाए, लेकिन लगभग 2 घंटे तक बारिश की वजह से मैच रुकने के बाद मेजबान टीम को 28 ओवरों में 202 रनों का संशोधित लक्ष्य मिला, जिसे उसने 5 विकेट खोकर हासिल कर लिए। उसके लिए क्लासेन ने नाबाद 43 और डेविड मिलर ने 39 रन की पारी खेली। भारत की लीड अब 3-1 हो गई है।

290 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी साउथ अफ्रीकी टीम को पहला झटका 8वें ओवर की दूसरी बॉल पर बुमराह ने कप्तान एडेन मार्करम (22) को LBW कर दिया। अभी मार्करम पविलियन लौट ही रहे थे कि मैदान पर एक बार फिर बारिश ने दस्तक दे दी। बिजली कड़कने और हल्की बारिश के बाद खेल को एक बार फिर रोकना पड़ा। इससे पहले भारतीय पारी के दौरान बारिश के कारण मैच रोकना पड़ा था। इसके बाद भारतीय समयानुसार, रात 12 बजे मैच शुरू हुआ तो डकवर्थ लुइस नियम के अनुसार, साउथ अफ्रीका को संसोधित लक्ष्य 28 ओवर में 202 रनों का मिला। जब मैच शुरू हुआ तो उसे 20.4 ओवर यानी 124 गेंदों में 159 रन बनाने थे। 

इसके बाद जेपी ड्यूमिनी (10) और हाशिम अमला (33) को कुलदीप यादव ने लगातार दो ओवरों में आउट कर दिया। अब साउथ अफ्रीका का स्कोर 3 विकेट के नुकसान पर 77 रन हो गया। साउथ अफ्रीका के 3 विकेट जरूर गिरे थे, लेकिन उसने हार नहीं मानी थी, क्योंकि एबी डि विलियर्स और मिलर मैदान पर थे। डि विलियर्स ने चहल को एक ही ओवर में दो छक्के लगाकर अपनी उपस्थिति दर्ज करा दी। हालांकि, वह अगले ही ओवर में पंड्या की गेंद को उड़ाने के चक्कर में वह रोहित शर्मा के हाथों लपके गए। 

अब लग रहा था कि भारत आसानी से जीत जाएगा, लेकिन इसके बाद मिलर ने मोर्चा संभाल लिया। उन्होंने पंड्या के एक ओवर में हैट-ट्रिक चौका लगाते हुए टीम पर से दबाव हटा दिया। इस दौरान क्लासेन को चहल ने बोल्ड आउट किया, लेकिन अंपायर ने नो बॉल करार दिया। इसके बाद तो क्लासेन ने भी शॉट लगाने शुरू किए। हालांकि, साउथ अफ्रीका जीत के बेहद करीब था तभी डेविड मिलर (39) चहल की बॉल पर पगबाधा हो गए। उन्होंने 28 गेंदों में 4 चौके और 2 छक्के लगाए। बाकी का काम फेहलुकवायो और क्लासेन ने पूरा किया। फेहलुकवायो ने तो सिर्फ 5 गेंदों में 3 छक्के और 1 चौका की मदद से 23 रन बनाते हुए 15 गेंद शेष रहते साउथ अफ्रीका को जीत दिला दी। 

इससे पहले टीम इंडिया ने अफ्रीकी टीम के सामने 290 रन का टारगेट रखा। इस मैच में टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी टीम इंडिया ने शिखर धवन (109) के ऐतिहासिक शतक की बदौलत निर्धारित 50 ओवर में 7 विकेट गंवाकर 289 रन बनाए। इस मैच में अपने करियर का 100वां वनडे मैच खेल रहे शिखर धवन ने शतक जड़कर एक खास उपलब्धि अपने नाम की। 

अपने वनडे करियर के 100वें मैच में शतक जड़ने वाले वह पहले भारतीय और दुनिया के 9वें बल्लेबाज बने। शिखर के शतक के अलावा कैप्टन विराट कोहली ने शानदार 75 रन का योगदान दिया। अंत में टीम के सीनियर बल्लेबाज एम. एस. धोनी ने नॉटआउट 42 रन की शानदार पारी खेली। साउथ अफ्रीका के लिए कगीसो रबाडा और लुंगी गिडी ने 2-2, जबकि मोर्ने मोर्केल और क्रिस मॉरिस ने 1-1 विकेट अपने नाम किया। 

इस मैच में शिखर धवन और विराट कोहली ने रेकॉर्ड 8वीं बार 100 या इससे अधिक रन की साझेदारी की। इस मैच में दोनों ने दूसरे विकेट के लिए 158 रन की साझेदारी निभाई। शिखर और विराट के लिए यह चौथा मौका था, जब इन दोनों ने साउथ अफ्रीका के खिलाफ 100+ की साझेदारी की हो। उल्लेखनीय है कि इन दोनों के बीच सभी शतकीय साझेदारियां विदेशों में हुई हैं। 

इससे पहले एक बार फिर रोहित शर्मा (5) के सस्ते में आउट हो गए। उन्हें इस सीरीज में रबाडा ने तीसरी बार पविलियन का रास्ता दिखाया। इसके बाद कोहली और धवन ने मिलकर भारत की पारी को मजबूत किया। लेकिन इन दोनों के विकेट गंवाने के बाद भारत का मिडल ऑर्डर कुछ खास नहीं कर पाया। धवन के शतक और कैप्टन कोहली के 75 रन के अलावा अजिंक्य रहाणे (8), श्रेयस अय्यर (18) और हार्दिक पंड्या (9) रन ही जोड़ सके। मिडल ऑर्डर में टीम के सीनियर बल्लेबाज एम. एस. धोनी पारी के अंत तक भारत के लिए उपयोगी रन जोड़ने की कोशिश करते रहे। उन्होंने नाबाद 42 रन बनाए। 

इससे पहले जब भारत 34.2 ओवर में 2 विकेट गंवाकर 200 रन जोड़ चुका था, तब वह बेहद मजबूत स्थिति में नजर आ रहा था। उस वक्त भारत इस मैच में 300 के पार जाता दिख रहा था, लेकिन इस दौरान यहां बारिश ने मैच में खलल डाल दी। बारिश के कारण मैच करीब एक घंटा रोकना पड़ा। लेकिन बारिश के बाद जब मैच शुरू हुआ, तो साउथ अफ्रीकी टीम ने मैच में शानदार वापसी की। उन्होंने पहले शतक जड़ चुके शिखर धवन को आउट किया। इसके बाद रहाणे, अय्यर, पंड्या को भी पविलियन की राह दिखाई। लेकिन अंत में धोनी की 42 रन की शानदार पारी की बदौलत टीम इंडिया 289 के स्कोर तक पहुंच गई। 

अधिक खेल की खबरें

किसान के बेटे सौरभ चौधरी ने 2 दिन में तीसरी बार लगाया गोल्ड पर निशाना, मनु भाकर के साथ मिलकर बनाया वर्ल्ड रिकॉर्ड..

पिता किसान हैं लेकिन बेटा गोल्ड पर निशाना लगाकर हिंदुस्तान का नाम रोशन कर रहा है. हम ......