कभी क्रिकेट खेलने से रोकने के लिए मां घर में कर देती थी बंद, अब है महिला क्रिकेट की सुपरस्‍टार
File Photo


भारतीय महिला क्रिकेट टीम की सबसे अनुभवी तेज गेंदबाज़ झूलन गोस्‍वामी आज अपना 36वां (25 नवंबर 1982) जन्‍मदिन मना रही हैं. इंटरनेशनल क्रिकेट (टेस्‍ट, वनडे और टी20) में 300 विकेट लेने वाली यह खिलाड़ी भारत के लिए वैसे ही खास है जैसे सचिन तेंदुलकर, कपिल देव, धोनी, विराट कोहली आदि हैं. यकीनन इस खिलाड़ी के नाम महिला क्रिकेट के कई बेमिसाल रिकॉर्ड दर्ज हैं.

झूलन गोस्‍वामी ने इंटरनेशनल क्रिकेट में 300 विकेट लिए हैं. उन्‍होंने 10 टेस्‍ट में 40, 171वनडे में 207 और 68 टी20 में 56 विकेट अपने नाम किए हैं, जो कि वर्ल्‍ड रिकॉर्ड है. जबकि दुनिया की दूसरी सफल गेंदबाज ऑस्ट्रेलिया की कैथरिन फिट्जपैट्रिक हैं जिन्होंने टेस्ट और वनडे में कुल 240 विकेट अपने नाम किए हैं. यानी अब तक 300 के आंकड़े तक कोई दूसरी गेंदबाज़ नहीं पहुंची है.

35 साल की झूलन वनडे क्रिकेट में सर्वाधिक विकेट लेने का वर्ल्‍ड रिकॉर्ड (207) रखने के अलावा टी20 क्रिकेट (56 विकेट) में भारत की सबसे सफल गेंदबाज़ हैं. हालांकि वह टी20 से रिटारयर हो चुकी हैं.

झूलन गोस्वामी 2007 में आईसीसी क्रिकेटर ऑफ द ईयर चुनी गई थीं. जबकि 2007 में उन्‍हें आईसीसी वुमंस क्रिकेटर ऑफ द ईयर का अवार्ड मिला था. इसके अलावा वह 2010 में अर्जुन अवार्ड और 2012 में पद्मश्री से सम्‍मानित हो चुकी हैं.

15 साल की उम्र में क्रिकेट खेलना शुरू करने वाली झूलन ने 1997 में भारत में हुए महिला वर्ल्‍ड कप फाइनल में बॉल गर्ल के रूप में काम किया था. यह मैच ईडन गार्डंस में खेला गया था.

पश्चिम बंगाल के नाडिया जिले के एक छोटे से गांव में पैदा हुईं झूलन को बचपन में स्कूल जाना बिल्कुल नहीं पसंद था. क्रिकेट उनका जुनून था. कभी-कभी क्रिकेट खेलने से रोकने के लिए मां उन्‍हें घर में बंद कर देती थी, लेकिन इससे वह रुकी नहीं. वह चुपचाप घर से निकलती और क्रिकेट खेलने फ्रेंड्स क्लब पहुंच जाती थीं. यही नहीं, वह मैच प्रैक्टिस के लिए करीब 80 किलोमीटर तक का सफर तय करती थीं और इसके लिए उन्‍हें 4.30 पर लोकल ट्रेन पकड़नी होती थी.

अधिक खेल की खबरें